शनिवार, 27 मार्च 2010

“अंतरजाल डाट इन – तकनीक” चिट्ठे का शुभारंभ

सूचना और तकनीक आधारित अंतरजाल डाट इन http://www.antarjaal.in वेबसाइट शुरू की जा रही है। अभी इस साइट में तकनीक (http://blogs.antarjaal.in/takneek/) नामक चिट्ठे का प्रकाशन किया जाएगा। इस चिट्ठे पर आप विंडोज़, लिनक्स तथा इंटरनेट पर लेख, नुस्खे, मुफ्त डाउनलोड आदि पाएंगे।

image

इस चिट्ठे यानि कि ankurthoughts (अंकुर गुप्ता का हिन्दी ब्लाग) को बंद तो नही किया जाएगा परंतु अब तकनीकी विषयों पर ज्यादातर प्रविष्टियां अंतरजाल डाट इन पर ही प्रकाशित होंगी।

अभी अंतरजाल डाट इन शुरुआती अवस्था में है। भविष्य में और भी चीज़ें इसमें जुड़ती चली जाएंगी।

ब्लाग एग्रीगेटरों से निवेदन है कि वे “तकनीक” चिट्ठे की भी सामग्री अपनी साइट में दिखाना शुरू कर दें।

इस चिट्ठे के ईमेल सदस्यों से निवेदन है कि वे आगे से तकनीकी विषयों पर हिन्दी में जानकारी के लिए “तकनीक” चिट्ठे की सदस्यता ले लें।

आपके सुझाव सादर आमंत्रित हैं।

मंगलवार, 23 मार्च 2010

गूगल ने चीन में खोज परिणामों पर से नियंत्रण खत्म किया

imageimageगूगल ने अपने आधिकारिक चिट्ठे में घोषणा की है कि चीन में उन्होने खोज परिणामों पर से नियंत्रण हटा लिया है। जो उपयोगकर्ता Google.cn पर जाएंगे उन्हे Google.com.hk पर पुन:प्रेषित कर दिया जाएगा। Google.com.hk जो कि हांगकांग में स्थित सर्वरों द्वारा चलाई जा रही है पर खोज परिणाम बिना किसी नियंत्रण अथवा रोक के उपलब्ध होंगे। हांगकांग में बीजिंग वाले नियम कायदे लागू नही होते।  इसीलिए Google.com.hk पर पहले भी बिना किसी नियंत्रण के खोज परिणाम दिखाए जाते रहे हैं। हांग कांग के सर्वरों में भार बढ़ जाने के कारण उपयोगकर्ताओं को पृष्ठ लोड होने में धीमेपन अथवा पृष्ठ ना खुलने जैसी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।

गूगल ने कहा है कि  चीन में स्थित अपने व्यापार संबंधी सभी निर्णय गूगल के संयुक्त राज्य अमेरिका के अधिकारियों द्वारा लिए जाते हैं। इनमें गूगल चीन का कोई भी अधिकारी या कर्मचारी शामिल नही है। गूगल को आशा है कि चीन की सरकार उसके निर्णय का सम्मान करेगी परंतु यह भी संभव है कि चीन की सरकार किसी भी वक्त गूगल की सेवाओं पर रोक लगा दे। इसीलिए गूगल ने यह एक नया पृष्ठ बनाया है http://www.google.com/prc/report.html#hl=en जिसके जरिए लोग यह जान सकते हैं कि चीन में उसकी कौन सी सेवाएं उपलब्ध हैं और कौन सी नही।

रविवार, 21 मार्च 2010

अंतर्जाल तथा अंतरजाल में से कौन शब्द सही है

इंटरनेट को संस्कृत  में अंतर्जाल लिखें या अंतरजाल ? कौन सा शब्द सही होगा ?

भाषा विशेषज्ञ मदद करें.

मंगलवार, 16 मार्च 2010

टेम्प्लेट डिजाइनर से ब्लागर टेम्प्लेट बनाना हुआ आसान

जी हां गूगल ने अभी हाल ही में ब्लागर ड्राफ़्ट में एक और नई सुविधा जोड़ी है: टेम्प्लेट डिजाइनर. इसकी मदत से अब गैर प्रोग्रामर/गैर डिजाइनर लोग भी सुंदर टेम्प्लेट बना पाएंगे. ब्लागर ड्राफ़्ट खोलने के लिए आपको बस इतना करना है कि http://draft.blogger.com पर लाग इन करना है. इसके लेआउट टैब में आपको “टेम्प्लेट डिजाइनर” नाम से एक विकल्प मिलेगा. इसे क्लिक करें.

image

ब्लागर टेम्प्लेट डिजाइनर आपको सर्वप्रथम ब्लाग की टेम्प्लेट का प्रकार चुनने को कहता है. आप चार प्रकारों में से कोई भी एक चुन सकते हैं. बढ़िया बात ये कि परिवर्तनों को आप उसी वक्त देख भी सकते हैं.

image

दूसरी टैब पृष्ठभूमि की है. इससे आप अपने ब्लाग की पृष्ठभूमि के चित्र को चुन सकते हैं. गूगल ने पृष्ठभूमि के लिए ढेर सारे चित्र पहले से ही उपलब्ध करवाए हैं. परंतु स्वयं का कोई चित्र अपलोड करने की सुविधा अभी नही है.

image

ब्लागरों को सबसे ज्यादा दिक्कत कालमों को लेकर होती थी. क्योंकि इसे बनाने के लिए एचटीएमएल तथा सीएसएस की जानकारी होना जरूरी है. गूगल ने इसे भी आसान बना दिया. पहले से कुछ कालमों के लेआउट बने बनाए उपलब्ध है. इनमें १,२,और ३ कालम वाले लेआउट भी हैं.

image

और हां आप इन कालमों की चौड़ाई भी बदल सकते हैं.

image

आखिरी विकल्प है “उन्नत”. इससे आप पृष्ठ के विभिन्न तत्वों का रंग तथा फ़ान्ट आकार बदल सकते हैं.

image

टेम्प्लेट डिजाइनर निश्चित तौर से गूगल की ओर से एक बढिया कदम माना जा सकता है क्योंकि इससे चिट्ठाकारों को अपने ब्लाग के डिजाइन को सुंदर बनाने में काफ़ी मदत मिलेगी.

सोमवार, 15 मार्च 2010

हिन्दी अखबार ही हिन्दी को डुबोने में लगे हैं

15032010246 15032010245

 15032010244 Picture 016

 Picture 017

ऊपर दिये गए सारे चित्र एक ही अखबार से हैं, हरिभूमि से। क्या आपको नही लगता कि एक हिन्दी के अखबार में अनावश्यक अंग्रेजी का प्रयोग किया गया है?

दैनिक भास्कर भी हरिभूमि की तरह हिन्दी में अंग्रेजी जमकर घुसेड़ रहा है। कल अपने दोस्त के यहां मैंने अखबार देखा लिखा था : Sunday दैनिक भास्कर।

ये वही अखबार है जो एक जमाने में लिखता था: “खुश हों कि आज रविवार है”। तो आज आपको रविवार की जगह “Sunday” क्यों लिखना पड़ रहा है?

दैनिक भास्कर की वेबसाइट देखिए:

image image

इसमें जमकर अंग्रेजी घुसेड़ी गई है. शहरों के नामों के साथ साथ लगभग सभी शीर्षक अंग्रेजी में लिखे गए हैं.

 

और इस कार्य में इन अखबारों का नेता बनकर उभरा है: नवभारत टाइम्स

image

http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/5683610.cms

ये अखबार न तो हिन्दी लिखता है और ना ही अंग्रेजी. ये शुद्ध हिंग्लिश का प्रयोग करता है। (और हिंग्लिश का प्रयोग कोई उपलब्धि नही है बल्कि समस्या है)

ये अखबार अक्सर हिन्दी को डुबोने के लिए लोगों को जागरूक(?) करने के लिए लेख भी निकालता है।

***

अब एक और चित्र देखिए। अखबार में ये सरकारी विज्ञापन आया है। इसमें लिखा है : “तम्बाखू से मुख का कर्क रोग होता है”

 Picture 015

मैं इसका क्या अर्थ निकालूं? क्या इसमें मेरे जैसे लोगों का मजाक उड़ाया जा रहा है कि “बहुत हिन्दी हिन्दी करते हो। अब ये लो। ऐसी हिन्दी कि किसी को आसानी से समझ में ना आये” या सरकार चाहती ही नही कि लोग ये जानें कि तम्बाखू से कैंसर होता है।

शनिवार, 13 मार्च 2010

ब्लाग आर्काइव तथा लेबल पृष्ठों को बेहतर बनाएं

जब हम किसी लेबल आदि को क्लिक करते हैं तो उससे संबंधित प्रविष्टियां नजर आती हैं. परंतु यदि इनकी संख्या अधिक को तो पृष्ठ काफ़ी लंबा हो जाता है और पढ़ने में असुविधा होने लगती है. आज मैं जो हैक आपको बताने जा रहा हूं उससे जब आप किसी लेबल में क्लिक करेंगे तो केवल प्रविष्टियों की सूची आएगी न कि पूरी सामग्री.

अपने डैशबोर्ड के लेआउट विभाग में जाकर “एचटीएमएल संपादित” करें विकल्प में क्लिक करें. फ़िर “विजेट टेम्पलेटों का विस्तार करें” वाले चेक बाक्स को सक्षम कर दें.

अब इसे खोजें.

<b:widget id='Blog1' locked='false'
title='Blog Posts' type='Blog'>
<b:includable id='main' var='top'>
<!-- posts -->
<div id='blog-posts'>
<b:loop values='data:posts' var='post'>
<b:if cond='data:post.dateHeader'>
<h2 class='date-header'>
<data:post.dateHeader/></h2>
</b:if>

<b:include data='post' name='post'/>

<b:if cond='data:blog.pageType == "item"'>
<b:if cond='data:post.allowComments'>
<b:include data='post' name='comments'/>
</b:if>
</b:if>
</b:loop>
</div>


उपरोक्त कोड में जो लाइन लाल रंग से दिखाई दे रही है उसे हटाकर उसकी जगह ये लिख दें:


<b:if cond='data:blog.homepageUrl !=
data:blog.url'>
<b:if cond='data:blog.pageType != "item"'>
<a expr:href='data:post.url'>
<data:post.title/></a><br/><br/>
<b:else/>
<b:include data='post' name='post'/>
</b:if>
<b:else/>
<b:include data='post' name='post'/>
</b:if>


अब आपके लेबल आदि के पृष्ठ कुछ ऐसे दिखने लगेंगे:


image 


स्रोत: http://hackosphere.blogspot.com/3006/08/new-hack-to-improve-your-labelsearch.html



 

गुरुवार, 11 मार्च 2010

क्या इग्नू(IGNOU) छात्रों के साथ मजाक नही है?

मैं “इडियट” बिरादरी से ताल्लुक रखता हूं(थ्री इडियट्स देखी है ना!).

बचपन से स्वाध्याय की शिक्षा मिली. बारहवीं आते आते शिक्षा तंत्र से मोहभंग हो गया. अत: निर्णय लिया कि जब भी पढ़ेंगे तो डिग्री के लिए नही ज्ञान के लिए पढ़ेंगे. घर वालों के खूब विरोध का सामना करना पड़ा. फ़िर सोचा कि चलो BCA का फ़ार्म डाल के देखते हैं. मैं पहले से ही जानता था कि इनके सिलेबस पुराने धुड़ाने किस्म के होते हैं. पर सोचा कि थोड़ा बहुत “एडजस्ट” कर लेंगे.

जब किताबें आईं तो देख के दंग रह गया. जानता था कि पाठ्यक्रम पुराना होगा. पर इतना पुराना ये नही जानता था? ये तो सीधे सीधे देश के छात्रों के साथ मजाक है.

किताबें १९९८ के बाद से अभी तक “रिप्रिंट” हो रही हैं. इन्हे बनाने वाला भारी भरकम दल पिछले 10-12 सालों से भगवान जाने क्या कर रहा है.

Picture 012Picture 012

देखिए बीसीए के विद्यार्थी क्या पढ़ेंगे विन्डोज 95

Picture 014Picture 014

माइक्रोसाफ़्ट आफ़िस वर्ड 95

Picture 013  Picture 013

अब ऐसा लगने लगा है कि ये सब पढ़ूंगा तो मैं जो कुछ भी जानता हूं वो भूल जाउंगा.

यद्यपि अब BCA के लिए अब घरवालों की ओर से दबाव खत्म हो गया है (थ्री इडियट फ़िल्म के लिए आमिर खान जी को ढेर सारा धन्यवाद)

परंतु सवाल अब भी वही है कि क्या इग्नू(IGNOU) देश के छात्रों के साथ मजाक नही है?

मंगलवार, 9 मार्च 2010

अंग्रेजी हिन्दी कम्प्यूटर शब्दकोश मुफ़्त में डाउनलोड करें

image

अभी कुछ दिनो पहले मुझे http://computerhindi.blogspot.com/ ब्लाग का पता चला. मुझे लगा कि इस ब्लाग में उपलब्ध सामग्री (शब्दकोश) को यदि किसी अनुप्रयोग के रूप में उपलब्ध करा दिया जाए तो लोग उस सामग्री का उपयोग और भी आसानी से कर पाएंगे. मैंने तुरंत उस ब्लाग की लेखिका श्रीमती संगीता पुरी जी को ईमेल करके सामग्री के उपयोग हेतु अनुमति मांगी. उन्होने सहर्ष अनुमति प्रदान कर दी. इस अनुप्रयोग के निर्माण में उन्हे बड़ा श्रेय जाता है.

यह शब्दकोश अनुप्रयोग कम्प्यूटरी अंग्रेजी के शब्दों के हिन्दी शब्द उपलब्ध कराता है. यह अनुप्रयोग हिन्दी साफ़्टवेयर डेवलपर तथा कम्प्यूटर के क्षेत्र में हिन्दी में लेखन करने वाले लोगों के लिए उपयोगी हो सकता है. इस शब्दकोश के उपयोग से तकनीकी लेखन में हिन्ग्लिश के प्रयोग को कम करने में मदत मिलेगी.

अनुप्रयोग को डाउनलोड करने हेतु इस लिंक पर क्लिक करें:

http://cid-5b47acc6f4edd8b7.skydrive.live.com/self.aspx/Public/shabdkosh.zip

इस अनुप्रयोग को चलाने के लिए आपको डाटनेट फ़्रेमवर्क ३.५ की आवश्यकता होगी. यदि यह आपके कम्प्यूटर में स्थापित नही है तो आप इसे निम्नलिखित पते से डाउनलोड कर सकते हैं:

http://www.microsoft.com/downloads/details.aspx?FamilyId=333325FD-AE52-4E35-B531-508D977D32A6&displaylang=en

अद्यतन

मेरे पास कोई “टेस्टिंग मशीन” नही है अत: आपको अनुप्रयोग में त्रुटियां देखने को मिल सकती हैं. आपको कोई त्रुटि मिल रही हो तो बताइए.

दिनेश सरोज जी ने अभी एक त्रुटि संदेश के बारे में बताया.

image

यदि आपको भी ये दिख रहा हो तो डाट नेट फ़्रेमवर्क के साथ साथ ये भी स्थापित कर लें.

http://sourceforge.net/projects/sqlite-dotnet2/

शनिवार, 6 मार्च 2010

अपना वालपेपर खुद बनाएं फ्लेम से

फ्लेम एक वेब आधारित अनुप्रयोग है जिसकी सहायता से आप अमूर्त किस्म के वालपेपर बना सकते हैं.

यदि कुछ गलती हो जाए तो उसे “अनडू” भी किया जा सकता है तथा “इरेज़र” की मदत से मिटाया भी जा सकता है. रंगों के चुनाव की भी सुविधा है.

यह 1,680px × 1,050px आकार के वालपेपर बनाता है और ये आपको वालपेपर का आकार चुनने का कोई विकल्प नही देता है.

इस अनुप्रयोग का उपयोग करने के लिए इधर जाएं: http://www.escapemotions.com/experiments/flame/#gallery

कलाकार लोग किसी भी चीज से कुछ भी बना सकते हैं. अब इस चित्र को ही देखिए.एक व्यक्ति ने इस अनुप्रयोग से खूबसूरत ड्रैगन बना दिया.

image

गुरुवार, 4 मार्च 2010

हिन्दी में प्रोग्रामिंग तथा कम्प्यूटरी जानकारियों के ठिकाने

मैंने पिछले लेख में आप सभी से पूछा था कि आप लोग हिन्दी को रोटी की भाषा बनाने के लिए क्या क्या कर रहे हैं. ढेर सारी टिप्पणियां आईं. लोगों के काम को जानकर मुझे बेहद खुशी हुई. अभी मुझे कुछ ऐसे अंतर्जाल के पते मिले जहां हिन्दी भाषा में काफ़ी अच्छी तकनीकी जानकारी दी जा रही है. मैंने सोचा कि आप सभी को इसके बारे में पता चले अत: ये प्रविष्टि ठेल दी.

 

प्रिंटएफ़स्कैनएफ़. यहां आप हिन्दी में सी भाषा पर काफ़ी लेख प्राप्त कर सकते हैं.

http://printf-scanf.blogspot.com

 

यहां आप सी प्रोग्रामिंग वीडियो ट्रेनिंग के जरिए सीख सकते हैं:

http://www.youtube.com/view_play_list?p=991FDE41EA8A3724

 

कम्प्यूटर हिन्दी: ये ब्लाग निश्चित रूप से उन लोगों के लिए उपयोगी सिद्ध हो सकता है जो कि हिन्दी भाषा में कम्प्यूटरी ज्ञान को लाना चाहते हैं. चूंकि पूरी कम्प्यूटर तकनीक का विकास विदेशों में हुआ अत: उसकी सारी शब्दावली अंग्रेजी में ही है. यदि हम उसके बारे में हिन्दी में लिखने की कोशिश करते हैं तो न चाहते हुए भी हिन्दी की हिन्ग्लिश बन जाती है. इस ब्लाग में कम्प्यूटर के ढेर सारे शब्दों का हिन्दी अनुवाद दिया हुआ है. यह ब्लाग हिन्दी के तकनीकी लेखकों के अलावा हिन्दी में अनुप्रयोग विकसित करने वालों के लिए भी खासा उपयोगी है.

इसी ब्लाग से कुछ उदाहरण : virtual memory = आभासी स्‍मृति, underscore = अधोरेखा.

http://computerhindi.blogspot.com/

[कम्प्यूटर हिन्दी के बारे में मेरी टिप्पणी: इस ब्लाग में मुझे वो जानकारी मिली जिसे मैं कई दिनों से खोज रहा था. मुझे तकनीकी लेखन में खासी दिक्कतें आ रही थी क्योंकि हिन्दी में कम्प्यूटर की कोई मानक शब्दावली नही मिल रही थी. computerhindi.blogspot.com के पीछे कार्य कर रहे लोगों को मेरी ओर से बहुत बहुत धन्यवाद]

 

श्रीश जी वापस आ गये हैं. नई प्रविष्टियों का इंतजार है

http://epandit.shrish.in/

 

रविरतलामी का हिन्दी ब्लाग: यहां तकनीकी, व्यंग्य, विविध विषयों पर लेख मिलेंगे.

http://raviratlami.blogspot.com/

 

तरकश डाट काम: तरकश में आप अंतर्जाल व तकनीक से संबंधित खबरें प्राप्त कर सकते हैं. व्यक्तिगत कम्प्यूटरी पर भी उपयोगी लेख मिलेंगे.

http://www.tarakash.com/2/e-word.html

 

आओ हिन्दी में कम्प्यूटर सीखें

http://learncomputersinhindi.blogspot.com

हिन्दी टेक ब्लाग: इस चिट्ठे से आप नित नए उपयोगी अनुप्रयोगों की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं. चिट्ठे की खास बात: ये चिट्ठा नियमित अद्यतन होता है. माह में तीस से ऊपर प्रविष्टियां आती हैं.

http://computerlife2.blogspot.com/

 

ज्ञान दर्पण के तकनीकी कालम में आपको इंटरनेट, विंडोज, लिनक्स आदि से संबंधित ढेर सारे लेख मिलेंगे. इसके अलावा कम्प्यूटर की समस्याओं के भी समाधान मिलेंगे.

http://www.gyandarpan.com/2009/01/blog-post_6759.html

 

उन्मुक्त जी के चिट्ठे में भी ढेर सारी जानकारियां उपलब्ध हैं, खास तौर से मुक्त स्रोत अनुप्रयोगों के बारे में.

http://unmukt-hindi.blogspot.com/search/label/%E0%A4%B8%E0%A5%89%E0%A4%AB%E0%A5%8D%E0%A4%9F%E0%A4%B5%E0%A5%87%E0%A4%AF%E0%A4%B0

 

कुन्नू सिंह का ब्लाग: ढेर सारी जानकारियां. विशेष तौर पर  वेब होस्टिंग तथा इंटरनेट के बारे में.

http://kunnublog.blogspot.com/

 

कंट्रोल पैनल: अंतर्जाल, तकनीक, संचार व मल्टीमीडिया से संबंधित लेख आप यहां से प्राप्त कर सकते हैं.

http://www.readers-cafe.net/controlpanel/

 

अंकुर गुप्ता का हिन्दी ब्लाग: इंटरनेट एवं साफ़्टवेयर के बारे में इस ब्लाग में जानकारी मिल सकती है. लिनक्स के प्रयोग से संबंधित लेख भी मिलेंगे.

http://ankurthoughts.blogspot.com

 

वेब डेवलपमेंट पर अंकुर गुप्ता: अभी तक वेबसाइट डेवलपमेंट तथा प्रोग्रामिंग की जानकारियां मुख्य रूप से अंग्रेजी में उपलब्ध थीं. इस ब्लाग में इन जानकारियों को हिन्दी में उपलब्ध कराने का प्रयास किया गया है. यहां आप PHP, Mysql, jQuery, Code Igniter आदि से संबंधित जानकारियां प्राप्त कर सकते हैं तथा वेब डेवलपमेंट सीख सकते हैं.

http://webtutsbyankurgupta.blogspot.com/

 

अद्यतन १

संचिका : इस ब्लाग में आप एचटीएमएल संबंधी शिक्षण सामग्री प्राप्त कर सकते हैं

http://sanchika.blogspot.com/search/label/html

 

अद्यतन २

तकनीक चिट्ठा. इस चिट्ठे में आप वर्डप्रेस, जूमला तथा काम के अन्य औजारों से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं. इस चिट्ठे की सामग्री गुणवत्ता अच्छी है परंतु ये चिट्ठा काफ़ी लंबे अरसे अद्यतन नही हुआ है.

http://takneek.wordpress.com/

* * *

यदि कुछ छूट गया हो तो टिप्पणी करके बताएं.