बुधवार, 25 फ़रवरी 2009

शादी की वजह – प्रेमचंद (बहुत मजेदार)

यह प्रेमचंद जी की रचना (शादी की वजह) है. मुझे काफ़ी मजेदार लगी सोचा आप सबसे बांटता चलूं.

शादी की वजह

यह सवाल टेढ़ा है कि लोग शादी क्यो करते है? औरत और मर्द को प्रकृत्या एक-दूसरे की जरूरत होती है लेकिन मौजूदा हालत मे आम तौर पर शादी की यह सच्ची वजह नही होती बल्कि शादी सभ्य जीवन की एक रस्म-सी हो गई है। बहरलहाल, मैने अक्सर शादीशुदा लोगो से इस बारे मे पूछा तो लोगो ने इतनी तरह के जवाब दिए कि मै दंग रह गया। उन जवाबो को पाठको के मनोरंजन के लिए नीचे लिखा जाता है—

एक साहब का तो बयान है कि मेरी शादी बिल्कुल कमसिनी मे हुई और उसकी जिम्मेदारी पूरी तरह मेरे मां-बाप पर है। दूसरे साहब को अपनी खूबसूरती पर बड़ा नाज है। उनका ख्याल है कि उनकी शादी उनके सुन्दर रूप की बदौलत हुई। तीसरे साहब फरमाते है कि मेरे पड़ोस मे एक मुशी साहब रहते थे जिनके एक ही लड़की थी। मैने सहानूभूतिवश खुद ही बातचीत करके शादी कर ली। एक साहब को अपने उत्तराधिकारी के रूप मे एक लड़के के जरूरत थी। चुनांचे आपने इसी धुन मे शादी कर ली। मगर बदकिस्मती से अब तक उनकी सात लड़कियां हो चुकी है और लड़के का कही पता नही। आप कहते है कि मेरा ख्यालहै कि यह शरारत मेरी बीवी की हैजो मुझे इस तरह कुढाना चाहती है। एक साहब पड़े पैसे वाले है और उनको अपनी दौलत खर्च करने का कोई तरीका ही मालूम न था इसलिए उन्होने अपनी शादी कर ली। एक और साहब कहते है कि मेरे आत्मीय और स्वजन हर वक्त मुझे घेरे रहा करते थे इसलिए मैने शादी कर ली। और इसका नतीजा यह हुआ कि अब मुझे शान्ति है। अब मेरे यहां कोई नही आता। एक साहब तमाम उम्र दूसरों की शादी-ब्याह पर व्यवहार और भेट देते-देते परेशान हो गए तो आपने उनकी वापसी की गरज से आखिरकार खुद अपनी शादी कर ली।

और साहबो से जो मैनेदर्याफ्त किया तो उन्होने निम्नलिखित कारण बतलाये। यह जवाब उन्ही के शब्दों मे नम्बरवार नीचे दर्ज किए जाते है—

१—मेरे ससुर एक दौलत मन्द आदमी थे और उनकी यह इकलौती बेटी थी इसलिए मेरे पिता ने शादी की।

२—मेरे बाप-दादा सभी शादी करते चले आए है इसलिए मुझे भी शादी करनी पड़ी।

३—मै हमेशा से खामोश और कम बोलने वाला रहा हूं, इनकार न कर सका।

४—मेरे ससुर ने शुरू मे अपने धन-दौलत का बहुत प्रदर्शन किया इसलिए मेरे मां-बाप ने फौरन मेरी शादी मंजूर कर ली।

५—नौकर अच्छेनही मिलते थे ओर अगर मिलते भी थे तो ठहरते नही थे। खास तौर पर खाना पकानेवाला अच्छा नही मिलता। शादी के बाद इस मुसीबत से छुटकारा मिल गय।

६—मै अपना जीवन-बीमा कराना चाहता था और खानापूरी के वास्ते विधवा का नाम लिखना जरूरी था।

७—मेरी शादी जिद मे हुई। मेरे ससुर शादी के लिए रजामन्द न होते थे मगर मेरे पिता को जिद हो गई। इसलिए मेरी शादी हुई। आखिरकार मेरे ससुर को मेरी शादी करनी ही पड़ी।

८—मेरे ससुरालवाले बड़े ऊंचे खानदान के है इसलिए मेरे माता-पिता ने कोशिश करके मेरी शादी की।

९—मेरी शिक्षा की कोई उचित व्यवस्था न थी इसलिए मुझे शादी करनी पड़ी।

१०—मेरे और मेरी बीवी के जनम के पहले ही हम दोनो के मां-बाप शादी की बातचीत पक्की हो गई थी।

११—लोगो के आग्रह से पिता ने शादी कर दी।

१२—नस्ल और खानदान चलाने के लिए शादी की।

१३—मेरी मां को देहान्त हो गया था और कोई घर को देखनेवाला न था इसलिए मजबूरन शादी करनी पड़ी।

१४—मेरी बहने अकेली थी, इस वास्ते शादी कर ली।

१५—मै अकेला था, दफ्तर जाते वक्त मकान मे ताला लगाना पड़ता था इसलिए शादी कर ली।

१६—मेरी मां ने कसम दिलाई थी इसलिए शादी की।

१७—मेरी पहली बीवी की औलाद को परवरिश की जरूरत थी, इसलिए शादी की।

१८—मेरी मां का ख्याल था कि वह जल्द मरने वाली है और मेरी शादी अपने ही सामने कर देना चाहती थी, इसलिए मेरी शादी हो गई। लेकिन शादीको दस साल हो रहे है भगवान की दया से मां के आशीष की छाया अभी तक कायम है।

१९—तलाक देने को जी चाहता था इसलिए शादी की।

२०—मै मरीज रहता हूं और कोई तीमारदार नही है इसलिए मैने शादी कर ली।

२१—केवल संयाग स मेरा विवाह हो गया।

२२—जिस साल मेरी शादी हुई उस साल बहुत बड़ी सहालग थी। सबकी शादी होती थी, मेरी भी हो गई।

२३—बिला शादी के कोई अपना हाल पूछने वाला न था।

२४—मैने शादी नही की है, एक आफत मोल ले ली है।

२५—पैसे वाले चचा की अवज्ञा न कर सका।

२६—मै बुडढा होने लगा था, अगर अब न करता तो कब करता।

२७—लोक हित के ख्याल से शादी की।

२८—पड़ोसी बुरा समझते थे इसलिए निकाह कर लिया।

२९—डाक्टरो ने शादी केलिए मजबूर किया।

३०—मेरी कविताओं को कोई दाद न देता था।

३१—मेरी दांत गिरने लगे थे और बाल सफेद हो गए थे इसलिए शादी कर ली।

३२—फौज मे शादीशुदा लोगों को तनख्वाह ज्यादा मिलतीथी इसलिए मैने भी शादी कर ली।

३३—कोई मेरा गुस्सा बर्दाश्त न करता था इसलिए मैने शादी कर ली।

३४—बीवी से ज्यादा कोई अपना समर्थक नही होता इसलिए मैने शादी कर ली।

३५—मै खुद हैरान हूं कि शादी क्यों की।

३६—शादी भाग्य मे लिखीथी इसलिए कर ली।

इसी तरह जितने मुंह उतनी बातें सुनने मे आयी।

—‘जमाना’ मार्च, १९२७

------------------------------------------------------------------------------------------

उपरोक्त जवाबों में एक बात समान है, किसी ने भी यह कहने की हिम्मत नही जुटाई कि वह शादी करना चाहते थे इसलिये उन्होने शादी की. हा हा हा.

अब आप सभी(केवल शादीशुदा) लोगों से गुजारिश है कि वे बतायें कि उन्होने शादी क्यों की? हा हा हा हा!

मंगलवार, 24 फ़रवरी 2009

बीएसएनएल यानि भ्रष्ट संचार निगम लिमिटेड

अभी कुछ दिनो के लिये मैं अपनी मम्मी के पास अंबिकापुर गया था. वहां बीएसएनएल का लैंडलाइन फ़ोन और ब्राडबैंड लगा है जो कि काफ़ी दिनो से(करीब डेढ़ महीनो से) काम नही कर रहा था. मम्मी के पास टाइम नही था तो मैने सोचा कि चलो मैं प्रयास करता हूं. सबसे पहले कस्टमर केयर को फ़ोन लगाया. वहां से उत्तर मिला के फ़लां नंबर पर संपर्क कीजिये. मैने उस नंबर पर संपर्क किया तो फ़ोन ही नही लगा. भई हम हार थोडे ही मानने वाले थे फ़िर लगाया कस्टमर केयर को अबकी बार उन्होने २ नंबर और दिये. मैने दोनो नंबर लगाने की कोशिश की पर घंटी तो जा रही थी कोई फ़ोन नही उठा रहा था.  फ़िर कस्टमर केयर को फ़ोन लगाया तो उन्होने फ़िर से पहला वाला नंबर दे दिया. और हमारा ध्यान नही गया कि यह पहले वाला ही नंबर है.

थक हार कर मम्मी ने कुछ कागज ढूंढे जिनमें कुछ नंबर थे अधिकारियों के. उनको फ़ोन लगाया गया. पहले वाले ने दूसरे का नंबर दे दिया. दूसरे को फ़ोन लगाया तो उसने बोला कि मैं अभी ठीक करवाता हूं. और कुछ घंटो में एक आदमी आ भी गया. मैने सोचा कि काम बन जायेगा. पर ये क्या वो आया और थोड़ा इधर उधर चेक किया फ़िर बोला कि मैं अभी आता हूं और फ़िर उसके बाद उसका अता पता नही मिला.शाम तक इंतजार करने के बाद फ़िर फ़ोन घुमाया तो फ़ोन बंद मिला.

अब यही काम एयर टेल में करवाना हो तो..

कस्टमर केयर को फ़ोन लगाइये. कंप्लेन लिखवाइये. कंप्लेन नंबर और सुधरने की तिथि  पाइये. अगर नियत समय पर फ़ोन ना सुधरे तो कंप्लेन नंबर लेकर फ़िर उसकी जानकारी प्राप्त कीजिये.

एयरटेल में तो यह तक है कि जब फ़ोन बन जाता है तब यहां के अधिकारी ग्राहक की कस्टमर केयर से बात करवाते हैं कि फ़ोन बन गया है. जब ग्राहक यह कह देता है कि फ़ोन बन गया है तभी कंप्लेन टिकट बंद होता है.

निष्कर्ष : बीएसएनएल का फ़ुल फ़ार्म होना चाहिये: भ्रष्ट संचार निगम लिमिटेड

शनिवार, 14 फ़रवरी 2009

गूगल भी मना रहा है वैलेंटाइन डे

ये देखिये गूगल भी मना रहा है वैलेंटाइन डे

गुरुवार, 12 फ़रवरी 2009

डिज्नी का ये काम पसंद आया

image

आज मैने फ़ोरम में ये एड देखा. एक समुद्रों को साफ़ रखने के बारे में था तो एक ऊर्जा बचाने के बारे में. और तो और ये दोनो ही एड डिज्नी कर रहा है. यानि कि डिज्नी इस तरह के सेवा भावना वाले लोगों को जागरूक करने वाले एड भी करता है. यह देखकर बहुत अच्छा लगा.

http://www.vibgyorlife.com/forum/

मंगलवार, 10 फ़रवरी 2009

आप इस वैलेंटाइन्स डे पर क्या करेंगे?

वैलेंटाइन्स डे करीब है. आप सभी से गुजारिश है कि इस ब्लाग पर यह शेयर करें कि आप इस वैलेंटाइन्स डे पर क्या करेंगे?

यह कुछ भी हो सकता है. राम सेना/शिव सेना के गुंडो की पिटाई से लेकर अपनी प्रेमी,प्रेमिका,पति,पत्नि को लांग ड्राइव में ले जाने तक कुछ भी.

अब आप पूछेंगे कि मैं क्या कर रहा हूं? अरे भई! मैं तो इंटरनेट पर अपने ब्लाग और वेबसाइट में ही वैलेंटाइन्स डे मना रहा हूं. सबको वैलेंटाइन्स डे पर वालपेपर्स बांट कर.

अगर आपको अपने “उससे” कुछ कहना हो और बोलने में दिक्कत हो तो मैसेजों से युक्त वालपेपर्स हाजिर हैं. इन्हे वेबसाइट से सीधे कहीं भी भेजा जा सकता है.

वालपेपर्स यहां हैं>>http://www.vibgyorlife.com/gallery/cat3.aspx?cid=1&ssid=266

शुक्रवार, 6 फ़रवरी 2009

वैलेंटाइन्स डे के वालपेपर्स

डाउनलोड करें वैलेंटाइन्स डे के वालपेपर्स. आप इन्हे अपने “खास” को सीधे वेबसाइट से ईमेल भी कर सकते हैं.

वालपेपर्स को बड़ा करने के लिये उनपर क्लिक करें.

Valentine's Day

Valentine's Day
1024x768 1280x1024

Valentine's Day

Valentine's Day
1024x768 1280x1024

Valentine's Day

Valentine's Day
1024x768 1280x1024

Valentine's Day

Valentine's Day
1024x768 1280x1024

Valentine's Day

Valentine's Day
1024x768 1280x1024

Valentine's Day

Valentine's Day
1024x768 1280x1024

मंगलवार, 3 फ़रवरी 2009

वैलेंटाइन्स डे की खुशखबरी

ये रही वो खबरें जो हैं इस वैलेंटाइन्स डे पर युवा जोड़ों के लिये खुशखबरी:

 

प्रेमी जोड़े को पकड़ने पर होगी कार्रवाई

नई दिल्ली। पुलिस कमिश्नर वाई.एस. डडवाल ने कहा है कि सार्वजनिक स्‍थान पर चुंबन (किसिंग) लेने वाले जोड़े को पकड़ने और फिर उनके खिलाफ मामला दर्ज करने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

मंगलवार को पुलिस मुख्यालय में आयोजित एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान इस मुद्दे पर उठाए गए एक सवाल के जवाब में डडवाल ने कहा कि पुलिस जनता की सुरक्षा के लिए हैं, उन्हें बेवजह तंग करने के लिए नहीं। अश्लीलता फैलाने के नाम पर लोगों को परेशान करने और उन्हें प्रताड़ित करने की इजाजत किसी को भी नहीं दी जाएगी। भले ही वे पुलिसवाले ही क्यों न हो। ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी।

गौरतलब है कि पिछले साल एक शादीशुदा कपल को दो पुलिसकर्मियों ने द्वारका मेट्रो स्टेशन के बाहर से पकड़ लिया और उन पर आरोप लगाया कि वे पब्लिक प्लेस पर एक दूसरे का चुंबन ले रहे थे, जो कानूनन यह गलत है। इतना ही नहीं, पुलिस ने उनके खिलाफ आईपीसी की धारा-294 (सार्वजनिक जगह पर अश्लील हरकत करना) के तहत केस भी दर्ज कर लिया। इसकी शिकायत उन्होंने पुलिस कमिश्नर से भी की थी, लेकिन उस पर गौर नहीं किया गया। जनवरी में पुलिस ने इस कपल के खिलाफ चार्जशीट भी दाखिल कर दी। कपल का आरोप था कि पुलिस उन्हें झूठे मामले में फंसा रही है।

 

अश्लीलता नहीं सार्वजनिक स्थान पर चुंबन

दिल्ली हाईकोर्ट ने एक शादीशुदा जोड़े के खिलाफ दायर मुकदमें को खारिज कर दिया। इस दंपति पर सार्वजनिक स्थान पर चुंबन का आरोपी बनाया गया था।

हाईकोर्ट के जज एस मुरलीधर ने कहा कि एक शादीशुदा जोड़े द्वारा प्यार की अभिव्यक्ति को अश्लीलता कैसे माना जा सकता है।

गौरतलब है कि पिछले साल सितंबर में पुलिस ने 28 साल के युवक और उसकी 23 वर्षीया पत्नी को स्टेशन के समीप चुंबन करने की वजह से गिरफ्तार किया था। पुलिस ने इस दंपति के खिलाफ सार्वजनिक स्थान में आपत्तिजनक हरकत करने का आपराधिक मामला दर्ज किया था।

इस मामले में अधिकतम तीन माह की जेल की सजा होती है।

जज एस मुरलीधर ने केस खारिज कर दिया। उन्होंने इस बात पर आश्चर्य व्यक्त किया कि दंपति द्वार खुद को शादीशुदा बताए जाने के बावजूद पुलिस ने उनकी नहीं सुनी।

चेतावनी: बस शिव सेना और राम सेना से सुरक्षा की कोई गारंटी नही है.

उबंटू मशीन को सर्वर बनाना

आज हम बात करेंगे की उबंटू लाइनेक्स डेस्कटॉप मशीन को सर्वर कैसे बनाया जाता है।
एक बेसिक सर्वर के लिए हमें निम्नलिखित चीजों की आवश्यकता होगी।
  • Apache HTTP Server
  • MySQL Database Server
  • PHP
वैकल्पिक ऍप्लिकेशन:
  • phpMyAdmin
  • Webmin
  • Webmin Skins
सबसे ऊपर के 3 एप्लीकेशंस को आप सिनैप्टिक पॅकेज मैनेजर से इंस्टाल कर सकते हैं
नीचे दिए स्क्रीनशोट्स मे आप देख सकते हैं की हमें कौन कौन से पॅकेज इंस्टाल करने होंगे।

इसमे मुख्य हैं
apache2, mysql-server,php5,php5-gd,php5-mysql
बाकी तो सब इन्ही पैकेजों के रिश्तेदार हैं।
इन्हे चुनने के बाद एप्लाई मे क्लिक करें। करीब ४० एम् बी डाउनलोड करना पड़ेगा।
इंस्टालेशन के दौरान आपसे mysql server का पासवर्ड सेट करने को कहा जायेगा। उसे दो बार भरना पड़ता है।
जब इंस्टालेशन पूरा हो जाए तो ब्राउजर खोलें और उसमे टाईप करें http://localhost/
अगर आपको ऐसा कुछ दिखे तो समझिये काम हो गया

यहाँ मैं आपको बताना चाहूँगा कि सर्वर की रूट डाइरेक्ट्री /var/www/ होती है।
it works वाला html पेज भी यह्नी पर होता है। पर गड़बड़ ये है कि इसमे केवल रूट यूजर का अधिकार होता है।
हालांकि इसके अधिकार को बदला जा सकता है। पर क्यूँ ना अधिकार बदलने की बजाये रूट फोल्डर का पाथ की बदल दिया जाए। सामान्यतः ऐसा करने के लिए एपाचे की कानफिगरेशन फाइल को खोल कर उसमे बदलाव करना पड़ता है। पर यह एक सामान्य उपयोगकर्ता के लिए आसान नही होगा।
अतः हम वेबमिन इंस्टाल करेंगे।
वेबमिन का डेबियन पॅकेज www.webmin.com से प्राप्त किया जा सकता है।
इसे इंस्टाल करना बेहद आसान है। बस पॅकेज मे डबल क्लिक कीजिये और हो गया।
इंस्टालेशन के बाद अपने ब्राउजर पर यह टाईप करें: https://localhost:10000/
अगर कोई सुरक्षा चेतावनी आए तो उस पर ध्यान मत दीजिये और आगे बढिए।
अब आपको लागिन आई डी और पासवर्ड डालने को कहा जाएगा। यहाँ पर आप अपना उबंटू का यूजर नेम और पासवर्ड डालें।
स्वागत है आपका वेबमिन मे।


पर ये वेबमिन उतना ख़ास नही लगता है जितना लग्न चाहिए। इसके लिए एक धाँसू थीम उपलब्ध है। इसे आप यहाँ से डाउनलोड कर सकते हैं:
http://www.stress-free.co.nz/webmin-theme?page=२

अब वेबमिन इंटरफेस मे webmin >webmin configuration > Webmin Themes पर जाएँ। यहाँ इंस्टाल थीम पर क्लिक करके ब्राउज करें और थीम फाइल चुन लें। और इंस्टाल थीम पर क्लिक करें.


अब चेंज थीम टैब पर जाकर स्ट्रेस फ्री थीम चुन लें.
अब वेबमिन जोरदार लगने लगेगा।


इसमे सर्वर मीनू पर जाकर अपाचे वेब सर्वर पर क्लिक करें।
existing virtual webhost के अंतर्गत वर्चुअल सर्वर पर क्लिक करें. नीचे स्क्राल करें। आपको कुछ ऐसा दिखाई देगा।

यहाँ डाक्यूमेंट रूट को /var/www/ को मनचाहे फोल्डर पाथ मे बदल दें ।
फ़िर सेव मे क्लिक करें और फ़िर अप्लाई चेंजेस मे क्लिक करें।


वेबमिन मे एक ख़ास बात ये है कि आप इससे अपने mysql डाटाबेसों को भी प्रबंधित कर सकते हैं। आप उनका बैकअप ले सकते हैं। टेबल बना सकते हैं और उनमे डाटा भी भर सकते हैं। यानी किसी अन्य डाटाबेस जी यू आई की जरूरत नही पड़ती है। हालाँकि आप अगर पी एच पी माय एडमिन का प्रयोग करने मे अभ्यस्त हैं या उसे इंस्टाल करना चाहते हैं तो वो भी किया जा सकता है। उसके बारे मे आगे की पोस्टों मे ।

उबंटू मे स्टार्ट अप के प्रोग्राम्स मैनेज करना



जिस तरह विन्डोज़ मे हम स्टार्ट अ के प्रोग्राम्स और सर्विसेस को msconfig से मैनेज करते हैं उसी तरह उबंटू मे भी एक सुविधा है। इसे आप
system > administrative tools> services
मे पा सकते हैं। ये बॉक्स हमेशा लाक रहता है। अत: अन लाक बटन पर क्लिक करें और पासवर्ड डालें। फ़िर जिस प्रोसेस को इनेबल करना हो उसे एनेबल कर सकते हैं और जिसे डिसेबल करना हो उसे उसे डिसेबल।
ये तो हुई सर्विसेस की बात।
अब बात करते हैं स्टार्ट अप के प्रोग्राम्स की। इसके लिए आपको
system > preference > sessions मे जाना होगा।


यहाँ पर आप किसी प्रोग्राम को स्टार्ट अप से जोड़ और हटा सकते हैं।
नए प्रोग्राम जोड़ते समय ये आपसे प्रोग्राम के कमांड के बारे मे पूछेगा। विन्डोज़ मे तो हम exe फाइल का पता दे देते हैं पर उबंटू मे ऐसा नही है। लाइनेक्स मे हमें कमांड देना होता है। ये कुछ कठिन नही होता है। अगर कमांड समझ मे ना आ रहा हो तो किसी पैनल के आइकन मे राइट क्लिक करके properties देखें आपको कमांड मिल जायेगा।