रविवार, 6 सितंबर 2009

और अब कैमरा भी ओपेन सोर्स

जी हां! स्टैनफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी की कम्प्यूटर ग्राफ़िक्स लेबोरेटरी में दुनिया का पहला ओपेन सोर्स कैमरा बनाया गया है. नाम है फ़्रैंकेनकैमरा.

Frankencamera

इसका अभी का प्रोटोटाइप कुछ खराब कैमरों के पुर्जों को जोड़कर बनाया गया है. इस कैमरे में नोकिया एन ९५ का कैमरा माड्यूल, एक सर्किट बोर्ड, कैनन के कुछ लेंसेज, और आपरेटिंग सिस्टम के लिय ओपेन सोर्स लिनक्स का इस्तेमाल किया गया है. इसका नाम फ़्रैंकेन इसलिये है क्योंकि ये सुंदर नही दिखता है.

आप सोच रहे होंगे कि ओपेन सोर्स होने से क्या होगा? अरे भई, ओपेन सोर्स होने से लोग इसके इमेज प्रोसेसेंग के एल्गोरिद्म को बदलकर मनचाहे रूप में इस्तेमाल कर सकेंगे. और निकान और कैनन के इमेज प्रोसेसिंग एल्गोरिदम्स में लोगों को बंधना नही होगा. अब वे स्वतंत्र रहेंगे.

इसके अलावा लोग इसे दोबारा प्रोग्राम करके कुछ ऐसा बना सकते हैं कि कोई विशेष उपकरण जोड़े जाने पर इसकी सेटिंग्स बदल जायें.

अब देखते जाइये सब कुछ ओपेन सोर्स होने वाला है.

1 टिप्पणी: