मंगलवार, 28 जुलाई 2009

ZOHO की सफ़लता का राज ओपेन सोर्स + क्लाउड

सीनेट न्यूज में जोहो आफ़िस सुईट की सफ़लता का राज प्रकाशित हुआ है. इसके मुताबिक जोहो आफ़िस सुईट ओपेन सोर्स CentOS, MySQL और Apache Tomcat जैसे ओपेन सोर्स साफ़्टवेयरों के ऊपर चलता है. वेगेस्ना ने यह भी बताया कि वो आपरेटिंग सिस्टम का तो सोर्स कोड नही बदलते हैं पर अन्य चीजों(जैसे माई एसक्यूएल) का कोड बदलकर उपयोग करते हैं.

ये पूछे जाने पर कि क्या जोहो को प्रापराइटरी साफ़्टवेयरों पर बनाया जा सकता था, जवाब सीधा था कि कल्पना कीजिये क्या गूगल अपने छ: लाख सर्वरों को विंडोज से चलाये. तकनीकी रूप से हो सकता है ये संभव हो पर ये शायद ही तब अपनी सेवाओं को फ़्री में दे पाये. प्रापराइटरी साफ़्टवेयरों के उपयोग से साफ़्टवेयरों को सेवाओं के तौर पर मुफ़्त में दे पाना संभव ही नही होगा.

पूरी खबर यहां आप अंग्रेजी में पढ़ सकते हैं:

http://news.cnet.com/8301-13505_3-10296094-16.html?part=rss&subj=news&tag=2547-1_3-0-20 

image

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें