शनिवार, 25 जुलाई 2009

एप्टाना स्टूडियो लिनक्स विन्डोज़ और मैक के लिए एक बढ़िया आई डी ई



एप्टाना
स्टूडियो वेब डेवलपमेंट के लिए एक प्रकार से आल इन वन आई डी ई साबित होता है। एच टी एम एल, सी एस एस और जावा स्क्रिप्ट के अलावा इसमे आप पी एच पी, रूबी आन रैल्स, पाइथन आदि की प्रोग्रामिंग भी कर सकते हैं. ध्यान दें की ये तीनो भी वेब डेवलपमेंट की भाषाएँ हैं। यही नही यदि आप जावास्क्रिप्ट लाइब्रेरियों जैसे की जे क्वेरी, डोजो, ई एक्स टी जे एस आदि का प्रयोग करते हैं तो एप्टाना स्टूडियो आपको इन लाइब्रेरियों के लिए भी कोड एसिस्ट प्रदान करता है। सबसे महत्वपूर्ण बात ये की ये बिल्कुल मुफ्त है। तभी तो एप्टाना स्टूडियो को ड्रीमवीवर किलर भी कहा जाता है।
एप्टाना स्टूडियो के द्वारा आप php, jaxer(server side ajax), ruby on rails, python की प्रोग्रममिंग कर सकते हैं। इसके अलावा एप्टाना स्टूडियो निम्न लिखित जावास्क्रिप्ट लाइब्रेरियों का समर्थन करता है।
jQuery, Dojo, Mootools, YUI, Scriptaculus, Prototype, ExtJS, OpenRico, Adobe Spry, ASP.net Ajax Controls, Mochkit, Aflax
और हाँ एप्टाना स्टूडियो की कहानी यहाँ खत्म नही होती है। क्योकि इसके द्वारा आप डेस्कटॉप ऍप्लिकेशन भी बना सकते हैं। एप्टाना स्टूडियो Adobe AIR Development को भी सपोर्ट करता है।
एप्टाना स्टूडियो विन्डोज़ लिनक्स और मैक तीनो के लिए मुफ्त उप्लब्ध है। इसे आप यहाँ से डाउनलोड कर सकते हैं:
http://www.aptana.com/studio/download

विन्डोज़ संस्करण के इंस्टालेशन के बारे मे ज्यादा कुछ जरूरत नही है। बस सेटअप को चालू कीजिये और इंस्टाल कीजिये।
लिनुक्स संस्करण बिना किसी इंस्टालर के आता है यानी की एक जिप फाइल के तों पर। इसे किसी डायरेक्टरी मे एक्सट्रेक्ट कीजिये उदाहरण के लिए होम डायरेक्टरी मे। फ़िर AptanaStudio नामक फाइल को डबल क्लिक करके रन कीजिये।
अगर ये फाइल रन ना हो रही हो तो इसमे राइट क्लिक करके प्रापर्टीज मे जाइए और फ़िर परमीशन टैब खोलिए। इसमे आपको एक विकल्प दिखाई देगा : Allow Executing File as Program. इस विकल्प को सक्षम कर दीजिये। अब दोबारा फाइल को डबल क्लिक करके रन करिए। एप्ताना स्टूडियो चालू हो जाएगा।



यहाँ एक बात मैं आपको बता दूँ की एप्टाना स्टूडियो सामान्य अवस्था मे केवल html, css, javascript, xml के सपोर्ट के साथ आता है। अन्य विशेषताएं जैसे पी एच पी सपोर्ट, रूबी आन रैल्स, जावास्क्रिप्ट लाइब्रेरियों का सपोर्ट आदि अलग से डालना पड़ता है।

जब आप पहली बार एप्टाना स्टूडियो चलते हैं तो आपको इन प्लग इन को डालने के लिए पूछा जाता है। अगर आप दोबारा कोई अन्य फीचर इंस्टाल करना चाहते हैं तो आपको help > install aptana features मे जाना पड़ेगा।



एप्टाना स्टूडियो जितनी भाषाओँ और जावास्क्रिप्ट लाइब्रेरियों को सपोर्ट करता है ड्रीमवीवर नही करता है। वहीं ड्रीमवीवर मे आपको wysiwyg इंटरफेस मिलेगा जो की एप्टाना स्टूडियो मे नही है (पर ये आपके कोड का प्रीव्यू दिखा सकता है )। वैसे भी बड़े स्तर के प्रोजेक्ट्स मे और वो भी जब प्रोग्रामिंग लैंग्वेजेज से बन रहे हों तो wysiwyg वाला सिस्टम किसी काम का नही रहता है। अगर आप ड्रीमवीवर को ध्यान से परखेंगे तो पता चलेगा की ये स्टैटिक साइटों को बनने के लिए विशेष तौर पर बनाया गया है। डायनेमिक के लिए भी कुछ सुविधाएं हैं पर वो काफी कम हैं।

अगर आप वेब डेवलपमेंट करने जा रहे हो तो इसे जरूर आजमाइयेगा ।

1 टिप्पणी: