गुरुवार, 31 दिसंबर 2009

नये साल के वालपेपर्स

व्यस्तता के कारण पिछले कुछ महीनों से मैंने ब्लागिंग रोक रखी थी. 


नव वर्ष की सबको शुभकामनाएं.

सोमवार, 12 अक्तूबर 2009

दीपावली के खूबसूरत वालपेपर्स

Diwali

Diwali
1024x768 1280x1024

Diwali

Diwali
1024x768 1280x1024

Diwali

Diwali
1024x768 1280x1024

Diwali

Diwali
1024x768 1280x1024

सबको शुभ दीपावली

Photojoy से अपनी फ़ोटोग्राफ़्स का मजा दुगुना करें

पिछली छुट्टियों पर खींची गई फ़ोटोग्राफ़्स कम्प्यूटर के किसी फ़ोल्डर में धूल खाती पड़ी होंगी(वैसे कम्प्यूटर के फ़ोल्डर तक धूल नही पहुंचती)

दोबारा उन्हे ढूंढ़ने और देखने की फ़ुर्सत कहां?

Photojoy जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है आपकी फ़ोटोग्राफ़्स के कलेक्शन का मजा बढ़ा देता है. और आपको अपनी फ़ोटोग्राफ़्स देखने का एक नया तरीका प्रदान करता है. ये आपकी फ़ोटोग्राफ़्स से खूबसूरत वालपेपर्स तथा ३डी स्क्रीन सेवर्स बना सकता है. यही नही आप इससे अपनी डेस्कटाप में विजेट्स भी लगा सकते हैं.

image

यह मुफ़्त है. इसे आप यहां से डाउनलोड कर सकते हैं: http://www.photojoy.com/index.aspx?id=11212

यह और क्या क्या कर सकता है, इस वीडियो में देखें:

$40 का ZC DVD Creator Platinum मुफ़्त प्राप्त करें

आज फ़िर एक विशेष आफ़र जेड सी डीवीडी क्रिएटर प्लेटिनम जिसकी बाजार में कीमत करीब चालीस डालर है (और भारतीय मुद्रा में करीब १९२० रुपये अगर १ डालर = ४८ रुपये मान के चलें) मुफ़्त डाउनलोड के लिये उपलब्ध है.

इसे डाउनलोड करने के लिये आपको winload.de नामक साइट पर जाइये.

http://www.winload.de/zc-dvd-creator-platinum-video-dvd-erstellen

फ़िर एक ईमेल वाले बाक्स में अपना ईमेल पता डालिये.

image

आपको एक ईमेल एक्टिवेशन लिंक के साथ मिलेगा.

image

एक्टिवेशन लिंक पर जब आप क्लिक करेंगे तो आपको डाउनलोड लिंक तथा लाइसेंस की दे दी जायेंगी.

image

स्क्रीनशाट्स

image image image

शनिवार, 3 अक्तूबर 2009

iolo Search and Recover का मुफ़्त लाइसेंस (सीमित समय के लिये, पहले आओ पहले पाओ)

टेक्नोलाजी नर्ड ने एक बार फ़िर एक नये साफ़्टवेयर का लाइसेंस दिया है. यह है iolo Search and Recover. इसकी “की” को प्राप्त करने के लिये http://tnerd.com/2009/10/01/free-search-recover-helps-you-recover-deleted-files-from-your-pc-get-free-keys-to-search-recover/ इस लिंक पर जायें और टेक्नोलाजी नर्ड के फ़ेसबुक पेज में लाइसेंस के लिये अनुरोध करें.

यह साफ़्टवेयर सामान्यत: करीब चालीस डालर का आता है. छूट के साथ अभी यह करीब बीस डालर का मिल रहा है. पर टेक्नोलाजी नर्ड इसका लाइसेंस मुफ़्त दे रहा है

यही नही इसका लाइसेंस एक वर्ष तक वैध होगा तथा इसे तीन कम्प्यूटरों तक उपयोग किया जा सकता है.

Search & Recover साफ़्टवेयर क्या करता है?

image

कई बार होता है कि कैमरे से जरूरी फ़ोटोग्राफ़्स डिलीट हो जाते हैं. mp3 प्लेयर से गाने डिलीट हो जाते हैं. हार्ड डिस्क से जरूरी फ़ाइलें मिट जाती हैं. ऐसी परिस्थितियों में इस साफ़्टवेयर का उपयोग किया जा सकता है. इससे ऐसी डिलीट हो चुकी फ़ाइलों को दोबारा प्राप्त किया जा सकता है.

इसके अलावा आप इससे हार्ड डिस्क की इमेज भी बना सकते हैं, उसे पासवर्ड से सुरक्षित भी कर सकते हैं, संपीड़ित कर सकते हैं और माउंट भी कर सकते हैं.

image

इस साफ़्टवेयर के जरिये वर्चुअल ड्राइव्स भी बनाई जा सकती हैं. जिनमें आपका डाटा पासवर्ड से सुरक्षित किया जा सकता है.

 image

शुक्रवार, 2 अक्तूबर 2009

मैं “प्रूव” नही कर पाया जिससे मेरी “नाक” कट गई और अब “शर्म” आ रही है.

पिछले दिनों मुझे अपने दोनो ब्लागों में टिप्पणियां मिली. उनका जवाब सोचा कि एक पोस्ट में ही लिख दूं:

 

पहली टिप्पणी मेरी बहुत बहुत पुरानी पोस्ट जो कि १४ अक्टूबर २००७ को प्रकाशित हुई थी उसमें आई है.

http://ankurthoughts.blogspot.com/2007/10/blog-post_14.html

 

image

anirudha gupta said... bhaiya mere web developer ho ya blogger. kitna jante ho web developing ke baare mein
agar web develpoer hi hote itni ghatiya site ki jagah ek professinal site banayi hoti uper diya hein font hatane ke baarein mein agar koi naya navela aadmi ye kaam karega toh uska system do din nahi chalega

 

bhaiya mere web developer ho ya blogger. – दोनो. दोनो होना में कोई बुराई है क्या?

kitna jante ho web developing ke baare mein agar web develpoer hi hote itni ghatiya site ki jagah ek professinal site banayi hoti -

टिप्पणी लेखक की एक बात से लगता है कि इनको वेब डेवलपमेंट का काफ़ी ज्ञान है. और उन्हे लगता है कि मेरी साइट घटिया किस्म की है. चलो ठीक है. पर कोई सुझाव तो दे देते. अभी मैं साइट के एप्लिकेशन को एकदम नया करने में लगा हूं. सुझाव काम आ जाते. और हां अगर आपको लगता है कि मेरा ज्ञान वेब डेवलपमेंट के विषय में लिखने के योग्य नही है तो बतायें कि कितना ज्ञान होना चाहिये इस विषय पर लिखने के लिये. और अगर आपको इस विषय में अच्छा खासा ज्ञान है  तो  कृपया वेब डेवलपमेंट के बारे में एक बढि़या सा ब्लाग शुरू करें हिंदी में. मैं तो आपका नियमित पाठक बनूंगा.

बिना पूंजी के एक खुद की साइट चलाकर पैसे कमाने के बारे में सोचना भी बहुत कठिन होता है. जो लोग इस काम को कर रहे हैं वो मेरी बात अच्छे से समझ सकते हैं. उसपर भी जब आपको पूरी साइट किसी जूमला, वर्डप्रेस में न बनाकर बल्कि खुद के CMS में बनानी हो तो और भी कठिनाई होती है. और ये सारा काम अकेले करना हो तो उसके बारे में सोचिये. अनिरूद्ध जी अगर आप कोई ऐसा काम कर रहे हैं और आप उसमें अच्छे से सफ़ल हैं तो कृपया अपना अनुभव बांटे ताकि हमारे जैसे संघर्षशील लोगों की मदत हो सके. अकेले ही इस काम को कर रहा हूं अत: साइट घटिया हो सकती है . आपके सुझाव सादर आमंत्रित हैं.

मैं अनिरूद्ध जी के बारे में और जानना चाहता था पर प्रोफ़ाइल में कुछ नही मिला.

image

 

कुछ दिनो पहले मेरे वेब डेवलपमेंट वाले ब्लाग में एक intel साहब ने एक टिप्पणी की

http://webtutsbyankurgupta.blogspot.com/2009/09/jquery-1.html#comments

image

intel ने कहा…

geek hokar jQuery se shuruaat karte hue sharm nahin aa rahi kya aapko. Aap kya prove karna chahte hai, ye to koi bhi google kar lega itni angrezi har computer wale student koi aati hai. Kam se kam php se shuruat kar lete, ya phir 'C' lang men hi kuch kar lete to naak nahin katati tumari. Bhaar walon men dhons dikhao computer field walon ko shayad is blog men interest aaye.

geek hokar jQuery se shuruaat karte hue sharm nahin aa rahi kya aapko. क्यों आये भला? मेरा ब्लाग है मैं जिस बारे में भी लिखूं. अब क्या इतनी भी आजादी नही है क्या.  मैं घूंस, घोटाला, हत्या, बलात्कार, चोरी डकैती, आतंकवाद, नक्सलवाद, जमाखोरी, कालाबाजारी, मिलावट आदि में से कोई भी काम नही कर रहा हूं तो शर्म किस बात की. जितनी क्षमता है उतना ज्ञान बांटने में लगा हूं.

Aap kya prove karna chahte hai, ye to koi bhi google kar lega itni angrezi har computer wale student koi aati hai ऐसा? मुझे तो नही पता था. मैं जब कम्प्यूटर स्टूडेंट था तो मुझे तो कोई खास अंग्रेजी नही आती थी. और अभी भी कई ऐसे लोगों से मिलता हूं जो सामान्य HTML,CSS जानते हैं पर अंग्रेजी नही. यहां तक कि मेरा एक दोस्त जो कि हमेशा अंग्रेजी माध्यम वाली स्कूल में पढ़ा वो भी यही कहता है कि हिंदी में कोई चीज लिखी हो तो पढ़ने में समय कम लगता है और बात समझ में भी जल्दी आती है. लेकिन इसमें Prove करने वाली बात कैसे आ गई?

Kam se kam php se shuruat kar lete, ya phir 'C' lang men hi kuch kar lete tonaak nahin katati tumari.

हम्म! इस लाइन से ये पता चलता है कि आपको php सीखने की काफ़ी ईच्छा है. PHP के बारे में भी लेख जरूर प्रकाशित होंगे. उनके अभी प्रकाशित ना होने का एक कारण है मैं आगे बताउंगा. आपने आगे सी लैंग्वेज के बारे में कहा है कि 'C' lang men hi kuch kar lete tonaak nahin katati tumari. तो इस बारे में मैं तो यही कहूंगा कि सी लैंग्वेज मुझे नही आती (हां एक बार थोड़ा पढ़ा था) और वेब डेवलपमेंट से इसका कोई लेना देना नही है. लेकिन अगर मुझे C नही आती तो इसमें नाक कैसे कट जाती है? दुनिया में बहुत से लोग हैं जिन्हे C नही आती.

intel साहब का भी प्रोफ़ाइल नही मिला:

image

PHP पर लेख प्रकाशित ना होने के कारण: इसका सबसे प्रमुख कारण एक पाठ्यक्रम जैसा कुछ ना बना पाना है. मैं चाहता था कि PHP पर एकदम शुरू से आखिरी तक एक किताब की तरह लेख प्रकाशित हों. उसके लिये कोई रूपरेखा अभी बना नही पाया हूं. इसका कारण व्यस्तता भी है. jQuery में अभी काफ़ी बुनियादी जानकारी प्रकाशित हुई है. आगे आगे देखते जाइये मेरी कोशिश रहेगी कि jQuery के संबंध में करीब करीब हर टापिक पर लेख प्रकाशित कर सकूं.

एक और बात: jQuery/PHP आदि में लिखने में अधिक समय व ऊर्जा खर्च होती है. इस वजह से अगर वेब डेवलपमेंट वाला ब्लाग समय से अद्यतन ना हो पाये तो क्षमाप्रार्थी हूं.

 

पाठको से अनुरोध: मुझे ऊपर वाली टिप्पणियों में प्रकाशित

bhaiya mere web developer ho ya blogger, डेवलपर या ब्लागर में से कोई एक क्षेत्र चुनने

sharm nahin aa rahi kya aapko, शर्म आने

naak nahin katati tumari, नाक कटने

Aap kya prove karna chahte hai, प्रूव करने

आदि के संबंध में कृपया अपनी राय जाहिर करें.

वर्चुअलाइजेशन फ़ार डमीज $20 की पुस्तक मुफ़्त में (विशेष आफ़र)

image

यहां से डाउनलोड करें:

https://dct.sun.com/dct/forms/reg_us_0809_496_0.jsp

यदि डाउनलोड के पहले यदि आप इस पुस्तक के बारे में और भी जानना चाहते हैं तो यहां क्लिक करें. यह पुस्तक अमेजन.काम में करीब २० डालर की है.

http://www.amazon.com/Virtualization-Dummies-Computer-Tech/dp/0470148314

रविवार, 27 सितंबर 2009

Firefox 3.7 के लिये Windows Theme Mockups

विंडोज विस्टा/विंडोज ७

image

image

विंडोज़ एक्सपी

image

ध्यान रहे ये आखिरी डिजाइन नही है. मोजिला ने इन्हे आपके फ़ीडबैक के लिये निकाला है.

मुझे एक ही बात लग रही है इन चित्रों को देखकर कि फ़ायरफ़ाक्स के विंडोज़ एक्सपी वाले संस्करण के साथ बहुत नाइंसाफ़ी हो रही है. एक्सपी वाले संस्करण में कोई खास बदलाव नही दिख रहा है. वहीं विस्टा/७ वाले डिजाइनों में काफ़ी बदलाव समझ में आ रहा है.

दुनिया का पहला ३डी प्रिंटर

प्रिंटर से आप क्या करते हैं? एक २डी इमेज कम्प्यूटर में बनाते हैं फ़िर उसे कागज पर प्रिंट कर लेते हैं. पर अगर इमेज ३डी हो तो?

दुनिया का पहला ३डी प्रिंटर हाजिर है जनाब. अब देखिये जरा इसका प्रिंट आउटपुट:

image

इस हाथ को बनाने में खर्च आया मात्र $4.73 का.

आश्चर्य हुआ ना? ये प्रिंटर ३डी माडल बना देता है. और पता है ये इनपुट के तौर पर आपका वही साधारण कागज ही लेता है. एक बार बनने के बाद आप इसे मनचाहे ढंग से रंग सकते हैं और खूबसूरत बना सकते हैं.

फ़िलहाल अभी यह प्रोटोटाइप के रूप में ही है. लेकिन बाजार में यह जल्द ही आयेगा.

image image image image

 

सभी तस्वीरें साभार: gizmodo.com

वीडियो साभार: tnerd.com

वीडियो फ़ाइलों को एक्जिक्यूटेबल्स में परिवर्तित करें

कई बार होता है कि हम किसी को कोई वीडियो फ़ाइल भेजते हैं और वो उसके कम्प्यूटर में चलती ही नही है. ऐसा सही प्लेयर या सही कोडेक इंस्टान नही होने से होता है. कई बार तो ऐसी समस्यायें हल हो जाती हैं पर अगर सामने वाला कम तकनीकी ज्ञान रखता हो तो सिरदर्द और बढ़ जाता है.

ऐसी स्थिति में उसे वीडियो फ़ाइल को एक्जिक्यूटेबल भेजना सही होगा ना? क्योंकि इसे चलाने के लिये तो किसी प्लेयर की जरूरत तो नही पड़ेगी.

जी हां! Make Instant Player एक ऐसा ही मुफ़्त साफ़्टवेयर है जिसकी मदत से वीडियो फ़ाइलों के एक्जिक्यूटेबल्स बनाये जा सकते हैं.

image

असल में मेकइंस्टेंट प्लेयर आपकी वीडियो फ़ाइल को ओपेन सोर्स एमप्लेयर के साथ जोड़ देता है. जब एक्जिक्यूटेबल को रन कराते हैं तो एक शुरूआती स्क्रीन भी आती है जिसे स्प्लैश स्क्रीन कहा जाता है. इसे भी आप अपने मन मुताबिक बदल सकते हैं. आपको कोडेक्स को शामिल करने का भी विकल्प  दिया जाता है. लेकिन ध्यान रखें कि इससे आपकी फ़ाइल का आकार बड़ा हो जायेगा.

 image

आप इस साफ़्टवेयर को यहां से डाउनलोड कर सकते हैं: http://mulder.dummwiedeutsch.de/home/?page=projects#instplay

लिनक्स मे प्रिज्म का उपयोग करना

मोजिला प्रिज्म से वेब आधारित अनुप्रयोगों को ब्राउजर से अलग डेस्कटाप पर चलाया जा सकता है।
प्रिज्म क्यो?
वेब अनुप्रयोग समय के साथ शक्तिशाली हुए हैं। लोग अब इनका पहले से अधिक प्रयोग करने लगे हैं। उदहारण के लिए:
  • फीड पढने के लिए : गूगल रीडर
  • ईमेल के लिए : जी मेल
  • सोशल नेटवर्किंग : फेसबुक
  • इमेज सम्पादन/वेक्टर ग्राफिक्स/ आडियो एडिटिंग के लिए : एविरी सुइट
आदि।
लोग अब इन्हे उसी प्रकार प्रयोग करना चाहते हैं जैसे की किसी डेस्कटॉप अनुप्रयोग को करते हैं।
ये अनुप्रयोग फ्लैश या जावास्क्रिप्ट पर बने होते हैं। अत: ये आपके ब्राउजर को धीमा भी कर सकते हैं। या ब्राउजर क्रैश भी हो सकता है। पर अगर ऐसा हुआ तो दूसरी टैबो मे खुले पेज भी बंद हो जायेंगे।
अत: ये जरूरी है कि ऐसे अनुप्रयोग अलग विण्डो मे चलें। बिना किसी एड्रेस बार या मीनू बार के। इसके अलावा हर अनुप्रयोग का एक शार्टकट भी होना चैये ताकि आप एक क्लिक से उसे शुरू कर सकें.
यही कारण है कि प्रिज्म को विकसित किया गया।

लिनक्स मे प्रिज्म इंस्टाल करना।
लिनक्स मे प्रिज्म इंस्टाल करना बहुत आसन है।
अनुप्रयोग/ऍप्लिकेशन मीनू मे क्लिक करके एड रिमूव प्रोग्राम मे जाएँ।
यहाँ prism लिखकर खोजें। ये आपको मिल जाएगा. अब इंस्टाल कर लें.

"एड रिमूव प्रोग्राम्स" मे आपको प्रिज्म के लिए जीमेल, फेसबुक आदि भी मिलेंगे। आप चाहें तो उन्हें भी इंस्टाल कर सकते हैं।

एक बार इंस्टाल होने के बाद आप प्रिज्म अनुप्रयोग अपने इन्टरनेट मीनू से शुरू कर सकते हैं।
एक बात और, यदि आप कोई अन्य वेब अनुप्रयोग प्रिज्म मे जोड़ना चाहते हैं तो इन्टरनेट मीनू मे "प्रिज्म" लांचर मे क्लिक कीजिये। इससे आपको इस प्रकार का एक डायलाग बाक्स मिलेगा.


इसमे आप अपने वेब अनुप्रयोग का यूआरएल भरिये, उसका नाम भरिये और डेस्कटॉप शार्टकट को सक्षम कर दीजिये।
ओके मे क्लिक कीजिये। आपका अनुप्रयोग एक अलग विण्डो मे खुल जाएगा। और इसका शार्टकट भी डेस्कटॉप मे आ जाएगा।



प्रिज्म क्रास प्लेटफार्म है। आप इसे विन्डोज़ मे भी इंस्टाल कर सकते हैं.

गनोम मीनू को संपादित करना - एक नया सब मीनू बनाना

आज हम लिनक्स के गनोम मीनू को संपादित करना सीखेंगे। इसके लिए हम एक नया मीनू बनायेंगे और उसमे एक नया शार्टकट जोडेंगे।
तो शुरू करते हैं:
सबसे पहले अनुप्रयोग मीनू में राईट क्लिक करके "मीनू संपादित करें(Edit Menus)" विकल्प में क्लिक करें।


अब दाएँ ओर के पैन में अनुप्रयोग में क्लिक करें। फ़िर "नया मीनू" विकल्प वाले बटन पर क्लिक करें। इससे आपको एक नया डायलाग बॉक्स मिलेगा। इसा डायलाग बॉक्स में अपने नए मीनू का नाम भरें। आप फोल्डर जैसे दिखने वाले बटन पर क्लिक करके अपने मीनू का आइकन भी बदल सकते हैं। अब ओके या ठीक बटन पर क्लिक करें।



तो अब आपका मीनू बन गया। लेकिन अभी ये अनुप्रयोग मीनू में दिखाई नही देगा क्योंकि इसके भीतर कोई शार्टकट नही है.



अब दाएँ ओर तरफ़ वाले पैन में जाकर अपने मीनू को चुन लें। फ़िर "नया मद" नाम के बटन पर क्लिक करें। अब आप अपना शार्टकट बना सकते हैं। यहाँ पर उदहारण के लिए गिम्प साफ़्टवेयर का शार्टकट बना रहे हैं। इसके लिए हमने नाम वाले बॉक्स के आगे "Gimp Program" तथा उसका कमांड "gimp" भरा है। अब आप ओके या ठीक बटन पर क्लिक करके डायलाग बॉक्स बंद कर सकते हैं।



अब जब आप अपना अनुप्रयोग मीनू देखेंगे तो आपको अपना नया सब मीनू उसमे दिखाई देगा।

इस लेख में मेरा जो लिनक्स है वो हिन्दी में दिखाई दे रहा है। अपने उबंटू को हिन्दीमय करने के लिए मेरी ये प्रविष्टि पढ़ें उबंटू लाइनेक्स को हिंदीमय करें

मंगलवार, 22 सितंबर 2009

अब वेब डेवलपमेंट पर हिंदी ब्लाग

आज ही से एक नया ब्लाग वेब डेवलपमेंट पर शुरू कर रहा हूं. अभी अभी एक पोस्ट प्रकाशित की है जोकि वेब डेवलपमेंट की बुनियादी “थ्योरी टाइप” जानकारी है. इस नये ब्लाग का पता है: http://webtutsbyankurgupta.blogspot.com/

मुझे एक दिक्कत हो रही है कि मैं कहां से शुरू करूं? सामान्य html से या सीधे php के टुटोरियल्स से. आप क्या क्या जानना चाहते हैं टिप्पणियों के जरिये बताइये. अगर कोई विषयों की रूपरेखा बना सकें तो और भी अच्छा रहेगा.

image

अद्यतन

मैंने यह सोचा है कि हर पोस्ट को मैं एक अलग पाठक वर्ग के लिये तैयार करूंगा. कुछ पोस्टें एकदम नये लोगों के लिये होंगे तो कुछ मध्यम स्तर के डेवलपरों के लिये तो कुछ एडवांस्ड लोगों के लिये.

कुछ पोस्टें एक के बाद एक सीरीज के तौर पर भी प्रकाशित की जा सकती हैं.

ई फ़ेसबुक तो चमकता है

एक मजेदार ट्रिक. आप इसे अपने दोस्तों को दिखाकर वाहवाही लूट सकते हैं. इसके लिये करना ये होगा कि अपना फ़ेसबुक पेज खोलें फ़िर निम्नलिखित बटने एक एक करके दबाते जायें:

UP-UP-DOWN-DOWN-LEFT-RIGHT-LEFT-RIGHT-B-A-<Enter>

अब माउस से पेज में क्लिक करें. आपको कुछ ऐसा इफ़ेक्ट दिखाई देगा:

image

फ़ेसबुक में लुटेरों की भाषा

ये बात तो दुनिया जानती है कि फ़ेसबुक बहुत सी भाषाओं को समर्थन देता है. पर आपने क्या इस भाषा में कभी ध्यान दिया है? English - Pirates

image

इससे आपका पेज कुछ ऐसा दिखने लगता है.

image

सोमवार, 21 सितंबर 2009

डिज्नी अप एक्टिविटी पैक अपने बच्चों के लिये डाउनलोड करें

डिज्नी ने अपनी “अप” फ़िल्म के प्रमोशन के लिये एक एक्टिविटी पैक मुफ़्त उपलब्ध कराया है. यह एक पीडीएफ़ फ़ाइल है जिसका प्रिंट लेकर आप उसे उपयोग कर सकते हैं.

इस एक्टिविटी पैक में अंतर ढूंढो़, रास्ता ढूंढ़ो आदि जैसे बच्चों के लायक खेल हैं.

इसे डाउनलोड करने के लिये यहां जायें:

http://www.vibgyorlife.com/article/article.aspx?cid=9&id=946

 

इसके अलावा आप अप फ़िल्म के वालपेपर्स भी डाउनलोड कर सकते हैं

image

http://www.vibgyorlife.com/gallery/cat3.aspx?cid=1&ssid=512

 

Disney’s Up की विशेष माइक्रो साइट:

http://www.vibgyorlife.com/moviesites/Default.aspx?msid=19

मेडल फ़ोल्डर में रखें अपने शार्टकट्स

image

मेडल फ़ोल्डर एक मुफ़्त और छोटी सी यूटिलिटी है जिसके द्वारा आप अपने रोजमर्रा में काम आने वाली फ़ाइलों एवं फ़ोल्डरों के शार्टकट्स तेजी से प्राप्त कर सकते हैं.

किसी फ़ाइल, एप्लिकेशन या फ़ोल्डर को इसके मीनू में जोड़ना ड्रैग ड्राप करने जैसा है.

image

इस छोटी सी यूटिलिटी को यहां से डाउनलोड किया जा सकता है http://www.medalware.com/medalfolders.php

रविवार, 20 सितंबर 2009

IBM ने अपने कर्मचारियों को MS Office छोड़ने के लिये 10 दिनों की मोहलत दी

imageIBM को तो आप जानते ही होंगे. आपको बता दूं कि IBM का अपना खुद का आफ़िस सुईट है: Lotus Symphony. लोटस सिंफ़नी, ओपेन आफ़िस पर आधारित क्लोज्ड सोर्स परंतु मुफ़्त आफ़िस सुईट है. यह आफ़िस सुईट लगभग २००८ से ही बाजार में उपलब्ध है. लेकिन अभी तक IBM खुद एम एस आफ़िस का प्रयोग कर रहा था. अभी हाल ही में उसने अपने कर्मचारियों को आदेश दिया है कि वो जल्द से जल्द MS Office छोड़कर Lotus Symphony का प्रयोग शुरू कर दें. अब एक ना एक दिन तो यह निर्णय लेना ही था. भई जब आप अपने खुद के साफ़्टवेयर को उपयोग नही कर रहे हैं तो दूसरों को उसे उपयोग की सलाह कैसे दे सकते हैं. कर्मचारियों को इसके लिये दस दिनों का समय दिया गया है.

लेकिन जब आईबीएम के तीन लाख साठ हजार कर्मचारी MS Office को छोड़ेंगे तो निश्चित तौर पर माइक्रोसाफ़्ट को झटका तो लगेगा ही.

अगर आप भी लोटस सिंफ़नी का उपयोग करना चाहते हैं तो इसे यहां से मुफ़्त डाउनलोड कर सकते हैं:

http://symphony.lotus.com

शुक्रवार, 18 सितंबर 2009

$25 का WinX DVD Ripper मुफ़्त में डाउनलोड करें [आफ़र सीमित समय के लिये]

image

WinX DVD Ripper आपकी डीवीडी फ़िल्मों को avi,mp4,mpeg,wmv,flv,3gp,iphone आदि के फ़ार्मेट्स में रिप करने का साफ़्टवेयर है.

सामान्यत: इसकी कीमत करीब $25 होती है. पर अभी से तीस सितम्बर तक यह मुफ़्त में डाउनलोड के लिए उपलब्ध है.

जल्दी करें आफ़र सीमित समय के लिये है.

http://www.winxdvd.com/specialoffer/sep09.htm

 

इसके पहले भी मैंने इसी प्रकार के आफ़रों के बारे में आपको बताया था (ये सभी आफ़र सीमित समय के लिये थे):

Sitepoint: Freelancing की किताब मुफ्त डाउनलोड

Technology Nerd ने दिया System Mechanic को फ़्री

अपना Firefox Extension कैसे बनायें. मुफ़्त ईपुस्तक!

गूगल ने रिकैप्चा को खरीदा [आइये समझें रिकैप्चा को]

गूगल ने अभी हाल ही में रिकैप्चा को खरीद लिया है. रिकैप्चा वेबसाइटों को आनलाइन कैप्चा लगाने की सुविधा प्रदान करने वाली सेवा है.

आपने इसे कई साइटों में कुछ ऐसे देखा होगा:

image

पहले रिकैप्चा को समझते हैं. रिकैप्चा असल में पुरानी पुस्तकों को डिजिटल रूप में परिवर्तित करने की सेवा है. पर ये काम कैसे करती है?

सामान्यत: किसी किसी किताब के किसी पृष्ठ को डिजिटल रूप देने के लिये उसे स्कैन करना पड़ेगा. लेकिन ये स्कैन की हुई कापी स्टोर करने में आकार में बड़ी हो जाती है तथा इसमें से शब्दों को खोजा नही जा सकता है. अत: इसमें से जानकारियां भी नही खोजी जा सकती हैं.

अत: इस समस्या का हल निकालने के लिये ओसीआर की मदत ली जाती है. ओसीआर यानि कि आप्टिकल कैरेक्टर रीडर. लेकिन ये भी पूरी तरह से शब्दों को पढ़ने में सक्षम नही है. और जब किताबें पुरानी हों और उनका प्रिंट खराब हो तब तो ओसीआर कुछ पढ़ ही नही पायेगा.

इसे समझने के लिये इस चित्र पर गौर फ़रमाइये:

image

केवल इंसान ही ऐसे शब्दों को पढ़ सकते हैं. अत: ओसीआर का काम कैप्चा के जरिये मनुष्यों से करवाया जाता है. क्योंकि मनुष्य ही खराब प्रिंट वाले अक्षरों को पढ़ सकते हैं. लेकिन लेकिन जब मशीन को शब्द का अर्थ ही नही पता है तो वह यह कैसे जानेगी कि आपने जो टाइप किया है वह सही है?

यही रिकैप्चा का आइडिया  है. आपको कैप्चा के रूप में दो शब्द दिये जाते हैं एक वो जिसका मतलब मशीन को पता नही है और दूसरा वो जिसका मतलब मशीन को पता है.

जब आप कैप्चा को हल करते हैं तो एक शब्द से मशीन ये निश्चित करती है कि आप मनुष्य हैं ना कि कोई रोबोट/प्रोग्राम और दूसरे शब्द के से मशीन उसका मतलब सीखती है.

दुनियाभर में प्रतिदिन करीब २०० मिलियन कैप्चा हल की जाती हैं. और किसी सामान्य व्यक्ति को इसे हल करने में करीब १० सेकेंड लगते हैं. जो कि मामूली है. पर इससे एक लाख पचास हजार घंटों का काम प्रतिदिन हो जाता है. और इस प्रकार पुरानी हो चुकी पुस्तकों के ज्ञान को डिजिटल रूप में परिवर्तित किया जाता है.

गूगल रिकैप्चा को खरीदकर गूगल बुक्स के लिये किताबों का डिजिटलीकरण करेगा.

 

तो है ना रिकैप्चा कमाल की चीज!