बुधवार, 24 दिसंबर 2008

अगर टर्मिनेटर जीसस के काल में पहुंच जाता तो क्या होता

क्या आपने टर्मिनेटर फ़िल्म देखी है? यदि हां तो इस वीडियो में आपको जरूर मजा आयेगा. 
अगर टर्मिनेटर जीसस के काल में पहुंच जाता तो क्या होता? देखिये इस वीडियो में.



मंगलवार, 23 दिसंबर 2008

फ़ेसबुक ओर्कुट भी हिंदी में – दुनिया हिंदीमय हो गई

image

आज एकाएक पता लगा कि फ़ेसबुक हिंदी में हो गई. मैं तो दंग रह गया. गूगल अपने आप को हिंदीमय कर ही रहा है. माइक्रोसाफ़्ट विंडोज लाइव के एप्लीकेशन और साइट हिंदी में हो गई है, लिनक्स भी हिंदी, और अब फ़ेसबुक और ओर्कुट भी.

एक समय था कि इन्ही कंपनियों की वजह से अंग्रेजी को बढ़त मिली. अंग्रेजी जानने वाले हिंदी भाषियों का मजाक बना लेते थे. कम्प्यूटर यानि अंग्रेजी. आज भी कई जगह ऐसा मिल जायेगा. मैं हिंदी मीडियम में जब था तो कुछ इंग्लिश मीडियम के बच्चों ने भी मेरा मजाक बनाया था. लेकिन लगता है कि अब यही कंपनिया हिंदी को फ़िर से भरपूर सम्मान दिलाने में कामयाब हो जायेंगी.

फ़ेसबुक तो आपसे ट्रांसलेशन में मदत भी मांग रहा है.

image

ओर्कुट हिंदी में

image

विंडोज लाइव हिंदी में

image imageimage image

मैं गणित में फ़ेल क्यों हुआ?

बहुत दिनों से केवल तकनीकी विषयों पर ही लिख रहा था. आज सोचा कि कुछ और बात की जाये. वैसे तो मैं अच्छे नंबरों से पास होने वाला विद्यार्थी था पर ११वीं में सप्लीमेंट्री आ गया. पता है किसमें, गणित में. और पता है क्यों क्योंकि मुझे उसका उपयोग समझ में नही आया. असल में दिक्कत ये थी कि मेरे दिमाग की प्रोग्रामिंग दूसरों से थोड़ी अलग हुई है. मैं हर चीज को क्यों कैसे करके सोचता हूं. मैंने शिक्षा में एक बड़ी कमी पाई है कि उसमें किसी भी चीज का उपयोग नही बताया जाता है. उदाहरण के लिये हम भौतिकी, रसायन, गणित क्यों पढ़ते हैं? क्या कुछ बनाने के लिये? नही! बल्कि अच्छे नंबरों से पास होने के लिये और किसी प्रतियोगी परीक्षा में चुने जाने के लिये.

जब भौतिकी में वेक्टर पढ़ाया गया तो मेरे सिर के ऊपर से निकल गया. वो तो भला हो “टिम बर्नर ली” का जिन्होने इंटरनेट बनाया नही तो वेक्टर कभी समझ नही आता. मुझे ये तो पता था कि फ़ोर्स एक वेक्टर है क्योंकि इसमें एक दिशा होती है. पर वेक्टर को समझने के लिये ये काफ़ी नही था. फ़िर इंटरनेट में मुझे एक gif एनीमेशन मिला जिसमें एक नाव और पानी के बहाव की मदत से वेक्टर को समझाया गया था. जब मैने उसे देखा तब जाकर कुछ पल्ले पड़ा.

किसी तरह गणित में लाग के सवाल लगाना आने लगा. लेकिन यहां भी वही समस्या थी कि लाग का करें क्या? अचार तक तो डालकर खा नही सकते हैं. किसी टीचर से पूछो तो बताता था कि ये जो गणित आप पढ़ रहे हो ये साइंटिफ़िक कैल्कुलेशन में काम आयेगी. अब वो कैल्कुलेशन क्या है ये तो मुझे पता नही था. स्कूल छूटते ही लाग भी दिमाग से निकल गया.

अभी कुछ दिनों पहले मुझे अपनी साइट के लिये टैग क्लाउड बनाना था. नीचे वाले चित्र में आप उसे देख सकते हैं.

image

इसमें होता ये है कि कोई भी टैग जितनी बार उपयोग में लाया जाता है उसी के अनुसार उसका फ़ांट साइज निर्धारित होता है. मैने इंटरनेट में इसके बारे में खोज बीन की तो कुछ लेख मिले उनमें से एक लेख में टैग क्लाउड बनाने का फ़ार्मूला दिया था. वो लाग के ऊपर आधारित था. मुझे पहली बार लाग के उपयोग के बारे में पता लगा. मैने फ़ार्मूला उपयोग किया और टैग क्लाउड तैयार हो गया. लेकिन अब मैं स्कूल वाला लाग भूल चुका था. अत: उस फ़ार्मूले की कार्य प्रणाली समझ में नही आई.

अब लगता है कि काश स्कूल में इसी तरह के छोटे छोटे उदाहरण लेकर अगर हमें पढ़ाया होता तो लाग समझ में आ गया होता. और इसका फ़ार्मूला ऐसा भी नही था कि ११वी १२वी का विद्यार्थी ना समझ सके.

अगर कभी मुझे शिक्षा मंत्री बनने का मौका मिला तो सबसे पहले मैं उस एजुकेशन सिस्टम को ठीक करूंगा जिसे हम मैकाले के समय से गरिया रहे हैं पर सुधार नही रहे हैं. हमारे बाप-दादाओं ने भी स्कूली निबंध में यही लिखा था कि एजुकेशन सिस्टम खराब है, मैं भी यही लिख रहा था और हमारे आने वाली पीढ़ी भी यही स्कूली निबंध लिख रही है कि एजुकेशन सिस्टम खराब है.

गुरुवार, 18 दिसंबर 2008

कुछ ज्यादा ही हिन्दी हो गई. एच टी एम् एल भी हिन्दी मे!

आज गूगल वेब मास्टर टूल्स की हेल्प मे मैंने एक पेज देखा तो मजा आ गया। गूगल इतनी जोर शोर से अपने आपको हिन्दीमय कर रहा है कि एच टी एम एल कोड को भी हिन्दी मे कर डाला।
ये देखिये स्क्रीन शॉट



<मेटा नाम="robots" सामग्री="noindex">
<मेटा नाम="googlebot" सामग्री="noindex">

समझने वाला तो समझ जाएगा पर गलती तो गलती है।
जहाँ तक है ये गलती जल्द ही सुधार ली जायेगी।
हमें तो मजा लेना और ब्लागियाना था सो वो कर लिया। बाकी गूगल जाने।

डायनेमिक आई पी वालों के लिए रिमोट डेस्कटॉप फ्री मे


मेरे पास एयरटेल वाला डायनेमिक आईपी ब्रॉडबैंड कनेक्शन है। ऐसा ही मेरे चाचा के पास भी है। पर दिक्कत ये होती थी की अगर कभी उन्हें कम्पयूटर मे कोई दिक्कत आ जाए तो बार -२ स्क्रीन शाट भेज भेज कर समस्या सुलझाना पड़ता था। इससे काफ़ी असुविधा होती थी। विन्डोज़ की रिमोट डेस्कटॉप को उपयोग नही कर सकता था क्योकि उसके लिए स्टैटिक आई पी वाला इन्टरनेट होना चाहिए। काफ़ी दिनों से कोई साफ़्टवेयर तलाश रहा था की आज मेरे दोस्त ने मुझे टीम व्यूअर के बारे मे बताया। मैंने झट से डाउनलोड किया। और चालू कर दिया। टेस्टिंग करने के लिए मेरे दोस्त और मैंने अपने अपने कंप्यूटरों मे इसे डाला (ये आकर मे करीब १.८ एम् बी का है) फ़िर इसके द्वारा जनरेट किए गए आईडी और पासवर्ड एक दूसरे को बता दिए। और अगले ही पल मैं घर मे इधर बैठकर अपने दोस्त की डेस्कटॉप मे काम कर रहा था।
हम दोनों खुशी के मारे कूद पड़े। जल्दी जल्दी मैंने अपने चाचा को फोन किया उन्हें भी इसके बारे मे बताया। फ़िर उन्होंने ने भी टीम व्यूअर इंस्टाल कर लिया। जैसे ही मैंने उनका आईडी और पासवर्ड अपने कम्पयूटर मे डाला उनकी डेस्कटॉप मुझे दिखाई देने लगी।
इधर जब मैं माउस चलता तो उधर उन्हें भी स्क्रीन मे माउस चलता दिखता।
वो भी बल्ले बल्ले करने लगे। भाई हमारी एक बड़ी समस्या का समाधान हो गया था।
अब जो काम वो नही कर पाते थे वो मैं यहीं पर बैठे बैठे उनके कम्पयूटर को चलाकर पूरा कर सकता हूँ।

ख़ास बात:
ये १००% फ्री साफ़्टवेयर है।
ये ४ तरह के कनेक्शन बनता है : फुल कंट्रोल, प्रेजेंटेशन, फाइल शेयरिंग और वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क।
२ प्रकार के अथेंटिकेशन को सपोर्ट करता है. विन्डोज़ और टीम व्यूअर।
आप कनेक्शन स्पीड के अनुसार पिक्चर क्वालिटी कंट्रोल कर सकते हैं।
जिस कम्पयूटर मे कनेक्शन साधा जाता है उसमे बैठा उपयोगकर्ता भी उसी दौरान माउस कंट्रोल कर सकता है।
रजिस्ट्रेशन की जरूरत नही। आईडी पासवर्ड अपने आप जनरेट होते हैं।
दो कंप्यूटरों के बीच कनेक्शन इनक्रिप्ट होता है.

इसे यहाँ से डाउनलोड करें>> http://www.teamviewer.com

रविवार, 14 दिसंबर 2008

सूमो पेंट लाया फोटोशाप जैसा इंटरफेस ब्राउजर मे



सूमो पेंट एक फ्रीवेयर आनलाइन चलने वाला ताकतवर इमेज एडिटिंग प्रोग्राम है। इसका इंटरफेस काफ़ी कुछ फोटो शाप से मिलता जुलता है। हालांकि इसे पूरी तरह से फोटोशाप का विकल्प नही कहा जा सकता है पर इतना कुछ फ्री मे मिल जाए बहुत है। सूमो पेंट के साईट मे लोगो ने अपने अपने आर्ट वर्क भी जमा किए हैं।
सूमो पेंट लेयर, फिल्टर, इफेक्ट्स, शेप्स आदि को सपोर्ट करता है।
सबसे बढ़िया बात ये की इसे प्रयोग मे लाने के लिए आपको रजिस्ट्रेशन की जरूरत नही पड़ती है।
ये प्रोग्राम फ्लैश बेस्ड है और ब्राउजर मे चलता है। ब्राउजर मे चलने के कारण ये क्रॉस प्लेट फार्म बन जाता है। सुनो सुनो लाइनेक्स गीको आप सभी के लिए एक बढ़िया इमेज एडिटिंग प्रोग्राम आया है.
इस प्रोग्राम को आप यहाँ पा सकते हैं
http://www.sumopaint.com


क्रिसमस के वालपेपर डाउनलोड करें, स्लाइड शो लगाएं

त्यौहार के मौके पर क्रिसमस के खूबसूरत वालपेपर डाउनलोड करें।
Christmas Christmas Christmas
Christmas Christmas Christmas
Christmas Christmas

आप इनका स्लाइड शो विजेट भी अपने ब्लॉग मे लगा सकते हैं
कोड यहाँ से जनरेट करें
http://www.vibgyorlife.com/widgets/default.aspx

गूगल बोला याहू मालवेयर फ़ैलाता है

इस स्क्रीन शाट को देखिये. गूगल के अनुसार याहू क्या करता है. इतना कुछ करने के बाद भी ये संदेहास्पद साइट नही है. पर हम इसका क्या अर्थ निकालें? आप अपने विचार टिपियाइये:



सुरक्षित ब्राउज़िंग

के लिए निदान पृष्ठ yahoo.com

yahoo.com के लिए वर्तमान सूचीबद्धता स्थिति क्या है?

यह साइट वर्तमान में संदेहास्पद रूप में सूचीबद्ध नहीं है.

जब Google इस साइट पर गया तब क्या हुआ?

पिछले 90 दिनों में साइट पर हमारे द्वारा परीक्षित 76863 पृष्ठों में से, 120 पृष्ठों के कारण हानिकारक सॉफ़्टवेयर उपयोगकर्ता की सहमति के बिना डाउनलोड किए गए और स्थापित किए गए. Google पिछली बार 2008-12-13 को इस साइट पर गया था, और पिछली बार 2008-12-13 को इस साइट पर संदेहास्पद सामग्री मिली थी.

हानिकारक सॉफ़्टवेयर में 87 scripting exploit(s), 69 trojan(s), 18 adware(s) शामिल है. सफल संक्रमण ने लक्षित मशीन पर औसतन 6 नई प्रक्रियाओं को पैदा किया.

हानिकारक सॉफ़्टवेयर, asmkuang.cn/, lineacount.info/, divinets.cn/ सहित 221 डोमेन(नों) पर होस्ट किए जाते हैं.

110 डोमेन(नों) इस साइट के आगंतुकों को मैलवेयर वितरित करने के लिए मध्यस्थ का काम करती प्रतीत होती है, जिसमें taiwanlottery.com.tw/, 89.28.13.0/, clicksoverview.com/ शामिल है.

This site was hosted on 42 network(s) including AS24429 (CNNIC), AS14779 (INKTOMI), AS36752 (YAHOO).

क्या इस साइट ने मध्यस्थ के रूप में काम किया है जिसके परिणामस्वरूप मैलवेयर का वितरण और अधिक हुआ है?

पिछले 90 दिनों से, yahoo.com, 321dh.cn/ समेत 1 साइट(टों) के संक्रमण के लिए मध्यस्थ के रूप में काम करती हुई प्रतीत हुई.

क्या इस साइट ने मैलवेयर होस्ट किया है?

हाँ, पिछले 90 दिनों में इस साइट ने हानिकारक सॉफ़्टवेयर होस्ट किया है. इसने 68ka.com/, 3721.com/, hai163.cn/ समेत 12 डोमेन(नों) को संक्रमित किया.

अगले चरण:

शुक्रवार, 12 दिसंबर 2008

गूगल क्रोम बीटा से बाहर. फ़ाइनल रिलीज. अभी डाउनलोड करें.



जी हां!  गूगल का क्रोम ब्राउजर बीटा से बाहर हो चुका है यानि कि फ़ुल्ली फ़ाइनल वर्जन डाउनलोड के लिये हाजिर है. सामान्यत: बीटा साफ़्टवेयर सालों बीटा में रहते हैं पर ये तो कुछ महीनों में ही अपने फ़ाइनल वर्जन में पहुंच गया.
आपको बता दूं कि गूगल क्रोम की सबसे अच्छी बात इसका जावास्क्रिप्ट इंजन है, जो कि तेजी से जावास्क्रिप्ट रन करता है. इसके अलावा मुझे सबसे अच्छी बात ये लगी कि इसमें विबग्योरलाइफ़.काम बिल्कुल सही दिख रही है किसी प्रकार के बदलाव की जरूरत नही. इंटरनेट एक्सप्लोरर में ना तो विजेट्स चलते हैं और ना ही इसके ८वें संस्करण में साइट सही तरीके से दिखती है. क्रोम का लाइनेक्स संस्करण अभी बन रहा है जल्द ही वो भी रिलीज होगा. क्रोम हिंदी में भी उपलब्ध है. इसके लाइट वेट होने और फ़ायर फ़ाक्स के सारे फ़ीचर्स की वजह से इसे मैं अपना ब्राउजर बना रहा हूं. आप अपनी बताइये. इंटरनेट एक्सप्लोरर के लिये खतरे की घंटी बज गई है. फ़ायर फ़ाक्स वैसे ही IE के लिये आंख का कांटा था अब ये बची खुची कसर पूरी कर देगा.

आप गूगल क्रोम यहां से डाउनलोड कर सकते हैं
http://www.google.com/chrome

अपडेट:

गूगल क्रोम में एक दिक्कत: माइक्रोसाफ़्ट ए एस पी डाट नेट के फ़ोरम के टेक्स्ट एडीटर को ये रेंडर नही कर पाता है.
इसी प्रकार जो मैने टेक्स्ट एडीटर विबग्योर लाइफ़ के कंट्रोल पैनल में लगाया है उसे भी ये नही दिखा पाता है.
ये एडीटर है free text box.


मंगलवार, 9 दिसंबर 2008

स्क्रीन सेवर को वालपेपर्स की तरह चलायें



स्क्रीनटुड्रीम एक फ़्री पोर्टेबल साफ़्टवेयर है जिसकी मदत से आप अपने पसंदीदा स्क्रीन सेवर को वालपेपर के रूप में लगा सकते हैं. और बढि़या ये कि ये आपके काम करते वक्त भी चलता रहेगा.
एनीमेटेड डेस्कटाप जबर्दस्त तो लगती ही है.

इसे यहां से डाउनलोड कर सकते हैं
http://dreamscene.org/download.php

माइक्रोसाफ़्ट एक्सेस २००७ से एस क्यू एल सर्वर में डाटा ट्रांसफ़र करना

माइक्रोसाफ़्ट एक्सेस २००७ के डाटाबेस अपसाइजिंग विजार्ड से हम अपने एक्सेस के डाटा को एस क्यू एल सर्वर में बेहद आसानी से ट्रांसफ़र कर सकते हैं.
इस टुटोरियल में हमारे पास एक एक्सेस की फ़ाइल है जिसमें ३ टेबल हैं. और हम उनमें से २ को एस क्यू एल सर्वर में ट्रांसफ़र करेंगे. तो चलिये शुरू करते हैं.

सबसे पहले अपना डाटाबेस खोलिये और यहां जाइये
"Database tools>Move Data>Sql Server".

10.jpg
अब अपसाइजिंग विजार्ड खुल जाएगा. यहां चुनिये "Create A new database" क्योंकि एस क्यू एल सर्वर में हम एक नया डाटाबेस बनाने जा रहे हैं और उसे एक्सेस की टेबल्स से भरेंगे. अब नेक्स्ट पर क्लिक करें.

9.jpg

इस पेज में हमें सर्वर का नाम भरना है. और यूजर नेम पासवर्ड भी. मैं लोकल सर्वर में काम कर रहा हूं अत: इसमें मैं ट्रस्टेड कनेक्शन का उपयोग करूंगा. हमें यहां डाटाबेस का नाम भी भरना होता है. अत: उसे भरने के बाद नेक्स्ट पर क्लिक करें.

8.jpg

अब विजार्ड आपसे टेबलों को चुनने के लिये कहेगा. उन्हे चुनें और नेक्स्ट पर क्लिक करें.

7.jpg

यह एक महत्वपूर्ण चरण है. विजार्ड आपसे पूछता है कि आप कौन कौन से एट्रीब्यूट्स एक्सपोर्ट करना चाहते हैं. हम इन्हे अपनी जरूरत के मुताबिक चुन सकते हैं. पर इस बार इन्हे ऐसा ही छोड़ रहे हैं.

6.jpg

इस चरण में आपसे पूछा जाता है कि आप
modify existing application
create new application
not to change application

यहां पर
not to change application चुनिये.

5.jpg

ये आखिरी चरण है. फ़िनिश पर क्लिक करें और अपसाइजिंग शुरु करें

4.jpg


3.jpg

अपसाइजिंग खत्म होने के बाद एक्सेस आपको रिपोर्ट दिखायेगा.

2.jpg
आप एसक्यूएल सर्वर मैनेजमेंट स्टूडियो का प्रयोग करके नये डाटाबेस को देख भी सकते हैं

1.jpg

सभी तरह की फ़ाइलें प्ले करेगा आलप्लेयर



कितना बुरा लगता है जब आप कोई मीडिया फ़ाइल डाउनलॊड करते हैं और फ़िर पता लगता है कि वो प्ले ही नही हो रही है. क्यों? कोडक नही है ना!
ओफ़्फ़!
आल प्लेयर में आप करीब करीब हर फ़ार्मेट प्ले कर सकते हैं वो भी बिना कोडक इंस्टाल किये.
हां के-लाइट जैसे हल हैं पर ये भी कोडक इंस्टाल करता है.
इस प्लेयर से आप MKV, DivX, Xvid, Flash, Quicktime, DVD,MP3 and FLAC फ़ाइलों को प्ले कर सकते हैं.

डाउनलोड का पता है
http://www.allplayer.org/index_en.htm

विंडोज ७ जैसा वर्ड पैड पायें विस्टा और एक्सपी में



विंडोज ७ का वर्ड पैड आफ़िस २००७ के जैसे रिबन इंटरफ़ेस के साथ आ रहा है. लोगों ने अपना दिमाग भिड़ाना शुरु कर दिया और एक डेविएंट आर्ट के उपयोगकर्ता ने एक वर्ड पैड २००९ के नाम से साफ़्टवेयर बनाया है. इसमें टैब सिस्टम, रिबन इंटरफ़ेस भी है.

आप इसे यहां से डाउनलोड कर सकते हैं
http://solo-dev.deviantart.com/art/Wordpad-2009-105410281
लेकिन इसके लिये आपको डाट नेट फ़्रेमवर्क ३.५ इंस्टाल करना पडे़गा.
उसे यहां से डाउनलोड करें http://www.microsoft.com/downloads/details.aspx?FamilyId=333325FD-AE52-4E35-B531-508D977D32A6&displaylang=en