बुधवार, 3 सितंबर 2008

गूगल ने लॉन्च किया धमाकेदार ब्राउजर


जी हाँ अब हिन्दी मे अच्छे ब्राउजर की कमी नही खलेगी। गूगल ने अपना क्रोम नाम से नया वेब ब्राउजर लौंच कर दिया है। बढ़िया बात ये की ये ओपन सोर्स है। तेज़ी से इंस्टाल होता है। तेज़ी से चलता है। इसमे टैब्स पर सबसे ज्यादा ध्यान दिया गया है। ये तेज़ी से काम करती हैं। आई ई मे मुझे धीमी टैब से सबसे ज्यादा समस्या होती है। और क्रोम टैब सिस्टम मे सबसे तेज़ है। इसका होम पेज आपके द्वारा सबसे ज्यादा देखे जाने वाले पेजों की लिस्ट रखता है। जिससे ब्राउजिंग तेज हो जाती है। फायर फाक्स की तरह आप एड्रेस बार से चाहे तो वेब पेज खोलें या सीधे सर्च .
करें।
इसमे स्टेटस बार जैसा कुछ नही है। नीचे मे स्टेटस अपने आप दिखता है और गायब हो जाता है. मीनू बार भी नही है। (जरूरत किसे है)
आप किसी टैब को खींच कर नई विण्डो मे बदल सकते हैं और चाहें तो दो विन्डोज़ की टैब्स को इधर उधर karke एक नई विण्डो बना सकते हैं।

इसका बीता वर्जन विन्डोज़ एक्स पी और विस्टा के लॉन्च कर दिया गया है। लाइनेक्स और मैक के आने वाला है।

डाउनलोड करने के लिए यहाँ जाएँ
http://www.google.com/chrome

22 टिप्‍पणियां:

  1. Wonderful achievement, great. congrates.

    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  2. अब इन्तिज़ार है गूगल के ऑपरेटिंग सिस्टम का.

    उत्तर देंहटाएं
  3. आप सभी का कमेंट्स के लिये धन्यवाद. लवली जी, google का OS बन चुका है पर अभी रिलीज नही किया गया है. ये है लाइनेक्स. जो अभी google labs में विकास कर रहा है.
    मैने सुना है इसे goobuntu कहते है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. विब्ग्योरलाइफ़ फ़ोरम में कमेंट्स देने के लिये अब रजिस्ट्रेशन आवश्यक नही रह गया है... ये आपने अच्छा किया | :)
    क्या आपने क्रोम का इस्तेमाल शुरू कर दिया है ?

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्रोम मै कभी कभी इस्तेमाल करता हूं. अभी भी मेरा मुख्य ब्राउजर फ़ायर फ़ाक्स ही है. क्योंकि इसमें मेरे सारे बुकमार्क हिस्ट्री आदि भी सुरक्षित है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. kunnu singh5/9/08, 12:38 am

    विब्ग्योरलाइफ़ फ़ोरम में कमेंट्स देने के लिये अब रजिस्ट्रेशन आवश्यक नही रह गया है

    अंकुर जी,
    कोड वेरीफीकेसन जरूर रख लेना। नही तो अगर कीसी ने स्पैमींग कर दीया तो गूगल द्वारा साईट ब्लोक हो जाएगा|
    google per jo site block ho jaye ushka traffic aadha se jyada rook jata hai

    बहुत दीनो बाद पोस्टींग कीये आप|

    उत्तर देंहटाएं
  7. kunnu singh5/9/08, 12:38 am

    विब्ग्योरलाइफ़ फ़ोरम में कमेंट्स देने के लिये अब रजिस्ट्रेशन आवश्यक नही रह गया है

    अंकुर जी,
    कोड वेरीफीकेसन जरूर रख लेना। नही तो अगर कीसी ने स्पैमींग कर दीया तो गूगल द्वारा साईट ब्लोक हो जाएगा|
    google per jo site block ho jaye ushka traffic aadha se jyada rook jata hai

    बहुत दीनो बाद पोस्टींग कीये आप|

    उत्तर देंहटाएं
  8. मैने यूज कर के देखा। बहुत मस्त है। ऎसा लग रहा है
    कि ईसको चलाने मे कोई लोड ही नही लग रहा है।
    एकदम साधारण। और गूगल टूलबार ईसमे पहले से ही है(नाम का ही बस एक बाक्स दीया है) यानी टूलबार का भी लोड नही है।

    कमी यही है की पेज खोलने पर कई को सही ढंग से नही दीखा रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. abhee to ye beta version hai. final version me improvement hoga aur bug fix bhee honge.

    उत्तर देंहटाएं
  10. अंकूर जी,
    मदद!

    मैने भी एक ब्राउजर बनाया है। 100% free
    और नाम दीया है ईसका "Ghost Browser"

    मैने creative common का लाईसेंस प्रयोग कीया है जीसमे ब्राउजर को को कोई सेल,रेंट और जो भी क्रीयेटीव कोम्न मे होता है वो।

    पर आप एक बार देख लें की क्या ये ठीक है। (गूगल की पूछ पकडने की कोशीश


    License

    "Ghost Browser" by "Kunnu Singh
    www.hindimaja.com/ghostbrowser



    License Under Creative Commons



    You are free:

    -to Share — to copy, distribute, display, and perform the work


    Under the following conditions:

    Attribution.-> You must attribute the work in the manner specified by the author or licensor (but not in any way that suggests that they endorse you or
    your use of the work).

    Noncommercial. You may not use this work for commercial purposes.

    No Derivative Works. You may not alter, transform, or build upon this work.




    For any reuse or distribution, you must make clear to others the license terms of this work. The best way to do this is with a link to this web page.


    Any of the above conditions can be waived if you get permission from the copyright holder.


    Nothing in this license impairs or restricts the author's moral rights.



    ईसे सही से देखने के लीये कापी कर के फूल वींडो मे notepad पर पेस्ट कर के देख लें।

    कूछ गलत हो तो जरूर बताऎ।

    बाकी ढेर सारी धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  11. अंकूर जी,
    मदद!

    मैने भी एक ब्राउजर बनाया है। 100% free
    और नाम दीया है ईसका "Ghost Browser"

    मैने creative common का लाईसेंस प्रयोग कीया है जीसमे ब्राउजर को को कोई सेल,रेंट और जो भी क्रीयेटीव कोम्न मे होता है वो।

    पर आप एक बार देख लें की क्या ये ठीक है। (गूगल की पूछ पकडने की कोशीश


    License

    "Ghost Browser" by "Kunnu Singh
    www.hindimaja.com/ghostbrowser



    License Under Creative Commons



    You are free:

    -to Share — to copy, distribute, display, and perform the work


    Under the following conditions:

    Attribution.-> You must attribute the work in the manner specified by the author or licensor (but not in any way that suggests that they endorse you or
    your use of the work).

    Noncommercial. You may not use this work for commercial purposes.

    No Derivative Works. You may not alter, transform, or build upon this work.




    For any reuse or distribution, you must make clear to others the license terms of this work. The best way to do this is with a link to this web page.


    Any of the above conditions can be waived if you get permission from the copyright holder.


    Nothing in this license impairs or restricts the author's moral rights.



    ईसे सही से देखने के लीये कापी कर के फूल वींडो मे notepad पर पेस्ट कर के देख लें।

    कूछ गलत हो तो जरूर बताऎ।

    बाकी ढेर सारी धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  12. लिंक काम नही कर रहा है

    उत्तर देंहटाएं
  13. अभी ये ब्राउजर मेरे कंप्यूटर मे है। और मै ईसमे लाईसेंस डालने के बाद नेट पर डालूंगा। :)

    उत्तर देंहटाएं
  14. adbrite use कर रहां हूं।
    पर अब थक गया हूं । क्यो की hindimaja.com मे और डयरेक्ट्री के हर पेज पर ऎड ब्राईट का कोड बनाना और लगाना पडता है।
    क्या कोई ऎसा उपाय नही है जीससे एक ही कोड sub directory मे दीखे। जैसे मैने कोड डाला www.hindimaja.com पर और ये ईसके सारे html फाईलो में एड दीखे।



    जीससे एक कोड से एक डायरेक्ट्री संभल सके?

    उत्तर देंहटाएं
  15. http://vaibzs.blogspot.com/2008/09/hanuman-3-return-of-ravana.html

    chek out my blog
    vaibhav gupta

    उत्तर देंहटाएं
  16. what is d Procedure
    to make side bars (left & right both)

    उत्तर देंहटाएं
  17. वैभव जी, ये टेम्प्लेट मैने फ़ाइनल सेंस से उठाई थी फ़िर उसमें बदलाव करते चला गया.

    उत्तर देंहटाएं
  18. अंकुर जी,
    आप ब्लाग पोस्ट लीखना बंद कर दीये हैं।

    बहुर गूस्सा आता है :)

    क्रुप्या अगर लीखने का मन नही हो तो कूछ भी लीख दें जैसे पीछले पोस्ट या कूछ भी, साईट के बारे मे आदी।

    आप नही लीखते हैं तो बहुत दूखी हो जाता हूं।

    शूभ दिपावली, दिपावली की शूभकामनाऎं।

    अपनी खबर ही बता दें की कैसे हैं?

    उत्तर देंहटाएं
  19. लीखना चालू कर दो, बहुत अच्छा लगता है जब आप लीखते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  20. लिखूंगा लिखूंगा, बिल्कुल लिखूंगा. इस समय काफ़ी व्यस्त हूं. थोड़ा इंतजार करें.

    उत्तर देंहटाएं
  21. adbrite use कर रहां हूं।
    पर अब थक गया हूं । क्यो की hindimaja.com मे और डयरेक्ट्री के हर पेज पर ऎड ब्राईट का कोड बनाना और लगाना पडता है।
    क्या कोई ऎसा उपाय नही है जीससे एक ही कोड sub directory मे दीखे। जैसे मैने कोड डाला www.hindimaja.com पर और ये ईसके सारे html फाईलो में एड दीखे।


    आप ड्रीमवीवर या एक्स्प्रेशन वेब सीखिये. आपकी समस्या का हल मिल जायेगा. उसमें एक टेम्प्लेट सिस्टम होता है जिससे ये काम किया जा सकता है. या फ़िर php / asp.net - सीखिये.

    उत्तर देंहटाएं
  22. चलो खूशी हूई की आप ब्लाग लीखेंगे।

    मेरे तो आदर्स आप ही हैं। आखीर आपकी वजह से ही तो मूझे ब्लाग लीखना बनाना आया।

    आपकी वजह से ड्रीमवेवर, फोटोसाप और नेट मे महारथ हासील हूई।

    शूभ दिपावली और ढेर सारी खूशीयां मीले आपको और आपके परीवार को।

    उत्तर देंहटाएं