मंगलवार, 22 अप्रैल 2008

मेरी पोस्ट का चिट्ठाजगत.इन मे हाल

अभी अभी मैने एक पोस्ट लिखी थी जिसमे ये बताया गया था कि उबंटू लाइनेक्स में अच्छी थीम लगाकर उसे कैसे कस्टमाइज किया जा सकता है.
साफ़्टपीडिया में मैने इसी तरह का एक आर्टिकल पढा था. सो उसी की तर्ज पर मैने भी अपनी पोस्ट का टाइटल रख दिया.

परिणाम:



मेरी पोस्ट को एडल्ट श्रेणी मे रखा गया है..

एक बात और पल्ले नही पड़ती है. जब मैं बिना कोई मेहनत के २ पैराग्राफ़ किसी के स्वागत में लिख देता हूं तो उसके ब्लाग से ज्यादा मेरे ब्लाग में टिप्पणियों की बौछार हो जाती है. और कभी अगर खूब मेहनत मशक्कत करके कोई पोस्ट लिखता हूं तो सन्नाटा पसरा रहता है.

ये टिप्पणियों का गणित तो मेरे सिर के ऊपर से चला जाता है. सिर में हवा तक नही लगती.

5 टिप्‍पणियां:

  1. बेनामी22/4/08, 9:56 am

    Do u really read chitthajagat?

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेनामी22/4/08, 10:08 am

    yes Mr Anonymous,

    Chtthajagat.in is only hindi blog aggreator which accomodate max possible blogs. you see many blogs on cj which are not there in other aggregators.

    उत्तर देंहटाएं
  3. अरे भैया पर मेरी वो पोस्ट कम्प्यूटर पर थी और चिट्ठाजगत वालों ने उसे ’समाज’ वर्ग में रख दिया. ये बात भी सिर के ऊपर से निकल गई.

    उत्तर देंहटाएं
  4. पता नहीं चिठ्ठाजगत ने मेरी इस पोस्ट को किस वर्ग में रखा होगा। बात पुरानी हो गयी!

    उत्तर देंहटाएं