सोमवार, 19 नवंबर 2007

लडे़ एडवायर/स्पाईवेयर से

आइये सबसे पहले जानते हैं कि एडवायर स्पाईवेयर क्या होते हैं.

एडवायर को हम इस तरह से परिभाषित कर सकते हैं: एडवायर ऐसे प्रोग्राम होते हैं जो आपकी जानकारी के बिना आपके कम्प्यूटर में इंस्टाल होते हैं और एडवर्टाइज़मेंट्स दिखाते हैं. ये आपकी इंटरनेट एक्टिविटीज़ के बारे में सूचनायें इकट्ठा करते हैं और कंपनियों को भेजते हैं. कंपनियां इन सूचनाओं का प्रयोग आपको आपकी रूचि से संबंधित एड दिखाने में करती हैं.

स्पाईवेयर एडवायर से ज्यादा खतरनाक होते हैं. ये आपके कम्प्यूटर से सेंसिटिव इन्फ़ारमेशन(जैसे फोन नं, क्रेडिट कार्ड की जानकारियां) चुरा कर अपने लेखक को भेज देते हैं. स्पाइवेयर और एडवायर अक्सर फ़्रीवेयर/शेयरवेयर साफ़्टवेयरों के साथ बंडल किये हुये आते हैं.

इनसे निपटने का सबसे अच्छा तरीका: एंटीस्पाईवेयर उपयोग करें. हलांकि ज्यादातर एंटीस्पाईवेयर अधिकतर एडवायर/स्पाईवेयर्स को ढूंढने मे सफ़ल नही हो पाते हैं इसलिये इंटरनेट में घूमते समय आंखे खुली रखें.

विंडोज एक्स पी फ़ायरवाल: विंडोज एक्स पी का फ़ायरवाल आपको केवल इनबाउंड ट्रैफ़िक मे सुरक्षा देता है. यानि कि ये बाहर से आने वाले हमले से तो आपको बचा सकता है पर यदि आपके कम्प्यूटर मे ही कोई स्पाईवेयर है तो वो उससे आपको सुरक्षा नही देता है. अतः सलाह यही है कि आप एक फ़ायरवाल खरीद लें अथवा कोई फ़्रीवेयर (जैसे कोमोडो फ़ायरवाल) इस्तेमाल करें.

sdsdsकहा जाता है कि इंटरनेट एक्सप्लोरर में एक स्विस चीज़ से भी ज्यादा होल हैं. अतः हमेशा विंडोज़ अपडेट से अपने कम्प्यूटर को अपडेट रखें. विंडॊज अपडेट को आप आटोमैटिक भी रख सकते हैं. ये आटोमैटिक है या नही ये जानने के लिये स्टार्ट > कंट्रोल पैनल > आटोमैटिक अपडेट मे जायें.

बहुत से लोग फ़ायर फ़ाक्स का प्रयोग करते हैं. ये ब्राउज़र एक्टिव एक्स प्लग इन्स को सपोर्ट नही करता है अतः ये एक्टिव एक्स के हमले से बच जाता है. वहीं इंटरनेट एक्स्प्लोरर यहीं पर हमले का शिकार हो जाता है.

चैट रूम में भी सावधानी रखने की जरूरत है. चैट रूम वो जगह होती है जहां पर आनलाइन थ्रीट फ़ैलते हैं. अतः किसी भी अनजान लिंक पर क्लिक ना करें.

मैकेफ़ी का साइट एडवाइजर आपको सर्च रिजल्ट्स में भी गड़बड़ साइटों के बारे में बता देता है. ये देखिये स्क्रीन शाट.

mcafee-site-advisor

स्क्रीन शाट स्रोत : सीनेट नेटवर्क

accoutकई यूज़र एकाउंट्स बनायें: विंडोज एक्स पी बाइ डिफ़ाल्ट एक एडमिनिस्ट्रेटर एकाउंट बनाकर देता है. एडमिनिस्ट्रेटर एकाउंट यानि कि वो एकाउंट जिसके द्वारा साफ़्टवेयर हटा सकते हैं/जोड़ सकते हैं. और बहुत से विशेष कार्यों को कर सकते हैं. पर अगर यही एकाउंट घर के सभी लोगों के द्वारा खोला जा सकेगा तो खतरा बढ़ जाता है. मसलन एक एडमिनिस्ट्रेटिव एकाउंट होमवर्क करने के लिये खतरनाक हो सकता है. अतः कुछ "लिमिटेड" एकाउंट्स बनायें. लिमिटेड एकाउंट्स वो होते हैं जिनमे से हम विशेष कार्यों को नही कर सकते हैं जैसे साफ़्टवेयर हटाना और जोड़ना. पर ये आपके रोजमर्रा के कामो को करने की सुविधा देते हैं जैसे इंटरनेट सर्फ़ करना, वर्ड प्रोसेसिंग करना.

नये एकाउंट्स जोड़ने के लिये स्टार्ट > कंट्रोल पैनल > यूजर एकाउंट्स में जायें.

क्रियेट एन अकाउंट मे क्लिक करें

उसका नाम दें और एकाउंट टाइप लिमिटेड कर दें.

एडमिनिस्ट्रेटर एकाउंट को पासवर्ड प्रोटेक्टेड रखना ना भूलें

मजबूत पासवर्ड बनायें: हैकर आपके पासवर्ड को चुरा ना पायें इसलिये अपने पासवर्ड को मजबूत बनायें. इसके लिये अपने पासवर्ड मे अल्फाबेटिकल कैरेक्टर्स के अलावा नम्बर्स और सिंबोल्स भी रखें.

सिस्टम रिस्टोर से हटायें एडवायर स्पाइवेयर: अपने कम्यूटर को स्कैन करने से पहले सिस्टम रिस्टोर को डिसेबल करने की सलाह दी जाती है. क्यों?

ghgक्योंकि सिस्टम रिस्टोर में आपके कम्प्यूटर की फ़ाइलें स्टोर रहती हैं और अगर स्पाईवेयर हुआ तो वो भी स्टोर रहता है. आप भले ही अपने कम्यूटर को स्कैन करके उस्से स्पाईवेयर हटा दें पर अगर सिस्टम रिस्टोर डिसेबल नही है तो स्पाईवेयर वहां सुरक्षित रहेगा और आपके कम्प्यूटर को नुकसान पहुंचा सकता है. सिस्टम रिस्टोर को डिसेबल करने के लिये माई कम्प्यूटर मे राइट क्लिक करें और प्रापर्टीज चुनें. अब सिस्टम रिस्टोर की टैब मे जायें. इसमे टर्न आफ़ सिस्टम रिस्टोर आन आल ड्राइव्स मे क्लिक करें. इसमे कुछ समय लग सकता है. इससे सारे सिस्टम रिस्टोर प्वाइंट खत्म हो जायेंगे. अब अपने कम्प्यूटर को स्कैन करें.

आप स्कैन करने के बाद यहीं से पुन: अपने सिस्टम रिस्टोर को स्टार्ट कर सकते हैं. पर जो सिस्टम रिस्टोर प्वांट्स हट चुके हैं उन्हे आप दोबारा नही पा सकते हैं।




फ़्री सिक्योरिटी साफ़्टवेयर

विंडोज़ डिफ़ेंडर

लावासाफ़्ट एडएवायर

स्पाईबाट सर्च एंड डिस्ट्राय

स्पाईवेयर ब्लास्टर

मैकेफ़ी साइट एडवाइजर

एवीजी फ़्री एंटी वायरस और एंटी स्पाईवेयर

कोमोडो फ़ायरवाल

2 टिप्‍पणियां:

  1. ये सब तो ठीक है पर बिलासपुर के बारे में भी जानकारी मिले तो ज़्यादा अच्छा रहेगा |
    मैं भी हिन्दी में लिखती हूँ लेकिन अभी तो सिर्फ़ कवितायें | लिंक मेरे ब्लॉग पर मिल जाएगा |

    वैसे आपका ब्लॉग बहुत रंगीन है लिखते रहिये |
    :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. जिस ब्लॉग पर आपने कमेंट छोड़ा है वो मेरा यात्रा वर्णन का ब्लॉग है, हिन्दी कवितायें दूसरे ब्लॉग पर हैं | पढ़कर बताइये कैसी लगी

    तारीफ के लिए शुक्रिया, मन तो बहुत कुछ लिखने का है, शुरू भी किया था पर हिन्दी पाठक कम हैं और काम की मसरूफियत के बीच समय निकाल कर इतनी मेहनत करना अभी तो बेकार लगता है | हाँ, धीरे - २ UP राज्य के कुछ पाठक आने लगें हैं | अगर ज़्यादा डिमांड हुई तो ज़रुर सोचूंगी. आप पाठकों का इन्तेजाम कीजिये फ़िर देखिये :-)

    क्या आपको लगता है की मेरे यात्रा वर्णन ब्लॉग का हिन्दी में लिखने से कुछ फायदा होगा?

    उत्तर देंहटाएं